यूपी में ओवैसी के बिगड़े बोल- अगर NRC लागू हुई तो यहां शाहीन बाग बना देंगे

Shubham Bajpai, Last updated: Sun, 21st Nov 2021, 7:28 PM IST
  • यूपी चुनाव को लेकर एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी रविवार को बाराबंकी पहुंचे. बारांबकी में ओवैसी ने सीएए और एनआरसी को लेकर भड़काऊ भाषण दिया. ओवैसी ने कहा कि यदि सरकार एनआरसी लागू करेंगे तो हम यहां पर शाहीन बाग बना देंगे. ओवैसी ने मोदी सरकार द्वारा कृषि कानून को वापस लेने को लेकर भी जमकर हमला बोला.
बाराबंकी में Aimim ओवैसी का बड़ा बयान, NRC को लागू किया तो…

लखनऊ. यूपी चुनाव में धर्म विशेष की राजनीति कर अपनी जमीन तलाश रहे एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी रविवार को एक सभा को संबोधित करने बाराबंकी पहुंचे. सभा में सीएए और एनआरसी पर बोलते हुए ओवैसी ने विवादित बयान दे दिया. ओवैसी ने कहा कि सरकार सीएए को वापस ले और यदि सरकार ने एनआरसी लागू कियो तो यहां शाहीन बाग बना देंगे. कृषि कानून को लेकर केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ओवैसी ने नौटंकीबाज बता दिया. इस दौरान यूपी चुनाव को लेकर ओवैसी ने कहा कि वो 100 सीटों पर यूपी में चुनाव लड़ेंगे.

गठबंधन को लेकर चल रही पार्टियों से बात

यूपी चुनाव लड़ने को लेकर ओवैसी ने कहा कि हम यूपी में 100 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे. अभी हमारी कुछ पार्टियों से गठबंधन को लेकर बात चल रही है. आने वाला समय बताएगा कि हम चुनाव लड़ेंगे या नहीं। चुनाव में क्या होना है ये उसका परिणाम ही बताएगा.

'अंबर से ऊंचा जाना है, एक भारत नया बनाना है,' इस कविता के साथ CM योगी ने PM संग साझा की फोटो

नरेंद्र मोदी बहुत बड़े नौटंकीबाज

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बड़ा हमला बोलते हुए ओवैसी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के सबसे बड़े नौटंकीबाज प्रधानमंत्री हैं. गनीमत है कि वे राजनीति में आ गए वरना बेचारे फिल्म इंडस्ट्री वाले का क्या होता. सारे अवार्ड तो मोदी जीत जाते.

CM योगी ने यूपी को दी 15 BSL-2 लैब की सौगात, 310 विशेषज्ञ डाक्टरों को दिया नियुक्ति पत्र

सियासी नुकसान न उठाना पड़े इसलिए लिया कानून वापस

ओवैसी ने कृषि कानून वापस लेने को लेकर पीएम मोदी ने कहा कि कृषि कानूनों को लेकर हो रहे आंदोलन से उनका परसेप्शन खराब हो रहा था. साथ ही चुनाव में सियासी नुकसान उठाना पड़ेगा इसका अनुमान होने पर उन्होंने कृषि कानून वापस लेने का ऐलान किया है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें