अखिलेश और योगी खुद को मोदी से बड़ा हिंदू साबित करने में लगे हैं: ओवैसी

Mithilesh Kumar Patel, Last updated: Sat, 29th Jan 2022, 10:59 PM IST
  • AIMIM के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने शनिवार को कहा कि अखिलेश और योगी के बीच मोदी से बड़ा हिंदू बनने की होड़ लगी है. इस दौरान उन्होंने कहा कि इनके बीच की लड़ाई सामाजिक न्याय के लिए नहीं है. दोनों में से अगर एक मंदिर के बारे में बात करता है, तो दूसरा किसी दूसरे मंदिर के बारे में बात करता है.
AIMIM के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी

लखनऊ. यूपी विधानसभा चुनाव में अपनी पार्टी के लिए जमकर प्रचार कर रहे AIMIM अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने शनिवार को कहा कि अखिलेश और योगी के बीच की लड़ाई सामाजिक न्याय के बारे में नहीं है. इन दोनों में मोदी से बड़ा हिंदू बनने की होड़ मची है. चुनाव प्रचार के दौरान उन्होंने कहा कि यह सामाजिक न्याय के बारे में नहीं है. लड़ाई इस बारे में है कि योगी या अखिलेश के बीच कौन बड़ा हिंदू है. दोनों मोदी से बड़ा हिंदू बनने के लिए प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं. इस मौके पर ओवैसी ने कहा कि अगर एक मंदिर के बारे में बात करता है, तो दूसरा किसी दूसरे मंदिर के बारे में बात करता है.

100 सीटों पर चुनाव लड़ेगा AIMIM का भागीदारी परिवर्तन मोर्चा

बता दें कि AIMIM ने भागीदारी परिवर्तन मोर्चा नाम से गठबंधन बनाकर उसमें कई छोटी छोटी  पार्टियों को शामिल किया है. जिसमें यूपी के पूर्व मंत्री बाबू सिंह कुशवाहा की जन अधिकार पार्टी और पिछड़े, दलित और अल्पसंख्यक समुदायों के एक अखिल भारतीय निकाय भी सहयोगी है. ओवैसी ने कहा है कि भागीदारी परिवर्तन मोर्चा यूपी में करीब 100 सीटों पर चुनाव लड़ेगा. शनिवार को ओवैसी ने बताया कि भागीदारी संकल्प मोर्चा के तहत गठबंधन के सभी दलों ने फैसला किया कि बाबू सिंह कुशवाहा संयोजक होंगे.

UP में ठाकुरवाद पर सीएम योगी बोले - केवल राजपूतों की राजनीति करने का दुख नहीं

आगे ओवैसी ने कहा कि अगर भागीदारी परिवर्तन मोर्चा जीत हासिल करती है तो पहले 2.5 साल के लिए AIMIM के मुख्यमंत्री होंगे और बाकी बचे 2.5 साल में हमारे गठबंधन के सहयोगी दल के दलित नेता सीएम होंगे. इसके अलावा 3 डिप्टी सीएम होंगे - एक मुस्लिम समुदाय से और 2 पिछड़े समुदायों से होगा.

सपा-कांग्रेस पर पलटवार

सपा-कांग्रेस पर भी निशाना साधते हुए असदुद्दीन ओवैसी ने शनिवार को कहा कि सपा और कांग्रेस केवल मुसलमानों से वोट चाहते हैं, लेकिन उन्हें चुनावी टिकट देने में संकोच करते हैं. साथ ही अपने ऊपर लगे आरोपों-जिनमें कहा जाता रहा है कि ओवैसी केवल उत्तर प्रदेश में अल्पसंख्यक समुदाय को विभाजित करके भाजपा की मदद करना चाहते हैं, का भी खंडन किया.

एनडीटीवी से ओवैसी ने कहा कि तथाकथित धर्मनिरपेक्ष लोग चाहते हैं कि मुसलमान सिर्फ कालीन बिछाएं और जिंदाबाद के नारे लगाएं. अगर आपको टिकट चाहिए, तो आपको भीख मांगनी होगी ... यह उनका पाखंड, दोहरा मापदंड है. इस दौरान मुस्लिम नेता इमरान मसूद के साथ समाजवादी पार्टी के तल्ख रिश्तों के बारे में उन्होंने कहा कि आप सहारनपुर से किसी को बुलाते हैं, फोटो खींचते हैं और फिर आप उसे धोखा देते हैं?.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें