भारत में मुस्लिम नहीं, हमेशा से हिंदू वोट बैंक था और रहेगा: ओवैसी

Shubham Bajpai, Last updated: Mon, 1st Nov 2021, 6:16 PM IST
  • एआईएमआईएम चीफ ओवैसी ने सहारनपुर में आयोजित सभा में हिंदू को वोट बैंक करार करते हुए बड़ा बयान दिया. ओवैसी ने कहा कि भारत में कभी मुस्लिम वोट बैंक नहीं था और न रहेगा, हमेशा से देश में हिंदू वोट बैंक था है और रहेगा. उन्होंने अपने इस बयान का वीडियो अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से भी ट्वीट किया. 
भारत में मुस्लिम नहीं, हमेशा से हिंदू वोट बैंक था और रहेगा: ओवैसी

लखनऊ. यूपी के सहारनपुर में आयोजित ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) की सभा में पार्टी प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने हिंदू को वोट बैंक बताकर नई बहस को जन्म दे दिया है. ओवैसी ने सभा में कहा कि भारत में कभी मुस्लिम वोट बैंक नहीं था, यहां हिंदू ही हमेशा से वोट बैंक था और रहेगा. साथ ही उन्होंने एनआरसी और सीएए को लेकर भी जमकर सरकार पर निशाना साधा. ओवैसी के इस बयान के वीडियो को पार्टी और ओवैसी ने खुद अपने ट्विटर हैंडल से शेयर किया.

मुस्लिमों के वोट बैंक की नहीं अहमियत

ओवैसी ने कहा कि देश में कभी मुस्लिम वोट बैंक नहीं था और न रहेगा, हमेशा से हिंदू वोट बैंक था और रहेगा. भारत की सियासत में मुस्लिमों के वोट बैंक की कोई अहमियत नहीं रही. भारत में मुस्लिम वोट बैंक नहीं रहा. इस बात को मैंने संसद में कहा था.

दिवाली पर यात्रियों को तोहफा, 2 नवंबर से लखनऊ से 10 शहरों के बीच चलेंगी नाॅन स्टॉप बसें

मुस्लिम वोट बैंक होता तो संसद में मुस्लिम सांसदों की संख्या कम क्यों

संसद में मुस्लिमों सांसदों की संख्या को लेकर ओवैसी ने कहा कि अगर मुस्लिम वोट बैंक होता तो भारत की संसद में सिर्फ 23 से 24 संसद जीतकर क्यों पहुंचते हैं. वहीं, यूपी में 2014 लोकसभा के वक्त मजलिस नहीं लड़ी तो फिर बीजेपी कैसे जीत गई. 2017 में विधानसभा चुनाव में मजलिस 25 सीटों में ही लड़ी और बीजेपी ने 300 सीटें जीतीं. 2019 लोकसभा में भी यूपी में सपा और बसपा मिलकर भी सिर्फ 15 सीटे ही जीत सके.

लखनऊ में रैपर बादशाह के कार्यक्रम में लड़कियों से छेड़खानी, मूकदर्शक बनी रही पुलिस

सीएए और एनआरसी लागू हुआ तो रोड पर होगा देश का मुस्लिम

सीएए और एनआरसी को लेकर ओवैसी ने सरकार को चेतावनी देते हुए लहजे में कहा कि इस देश की आजादी में हमारे बुजुर्गों ने भी अपना खून बहाया और कुर्बानी दी है. यदि सीएए और एनआरसी देश में लागू हुआ तो देश का मुस्लिम सड़कों पर होगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें