अजीत सिंह हत्याकांड: विपुल सरेंडर की फिराक में, शूटर राजेश के करीब पहुंची पुलिस

Smart News Team, Last updated: Sat, 23rd Jan 2021, 5:26 PM IST
  • अजीत सिंह हत्याकांड में घायल शूटर राजेश तोमर के काफी करीब पुलिस पहुंच गई है. उसके बारे में जानकारी उसके ही दो बेहद करीबियों ने पुलिस को दी. पुलिस को यह भनक लग गई है, कि हरियाणा नम्बर प्लेट वाली गाड़ी से वह कहां गया और किसने उसे शरण दी.
अजीत सिंह हत्याकांड: विपुल सरेंडर की फिराक में, शूटर राजेश के करीब पहुंची पुलिस

लखनऊ: लखनऊ में छह जनवरी को हुए मुख्तार अंसारी के करीबी अजीत सिंह हत्याकांड मामले में मामले में घायल शूटर राजेश तोमर के काफी करीब पुलिस पहुंच गई है. उसके बारे में जानकारी उसके ही दो बेहद करीबियों ने पुलिस को दी. पुलिस को यह भनक लग गई है, कि हरियाणा नम्बर प्लेट वाली गाड़ी से वह कहां गया और किसने उसे शरण दी. इसके अलावा पुलिस तीन और शूटर मुस्तफा उर्फ बंटी, शिवेन्द्र सिंह उर्फ अकुंर और रवि यादव की तलाश में आजमगढ़, अलीगढ़ और बागपत में कई जगह छापेमारी भी की है. इस दौरान कई लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई, और उन्हें चेतावनी देकर छोड़ा गया कि वह बिना अनुमति शहर से बाहर नहीं जायेंगे.

अजीत हत्याकांड में फरार सभी शूटरों पर गुरुवार को 25-25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया था. गुरुवार को ही पुलिस ने चंदौली निवासी संदीप सिंह उर्फ बाबा की गिरफ्तारी का खुलासा करते हुए पूरी गुत्थी सुलझ जाने का दावा किया था. जबकि मीडिया के कई सवालों का जवाब देने से पुलिस अधिकारी बचते रहे थे. जेसीपी (JCP) नीलाब्जा चौधरी ने बताया था कि संदीप बाबा से पूछताछ के बाद कई जानकारियां साफ हो गई हैं. गिरधारी और संदीप जेल में हैं. अब भी चार शूटर अलीगढ़ का राजेश तोमर, मुस्तफा, रवि यादव और शिवेन्द्र सिंह उर्फ अकुंर फरार चल रहे हैं.

यूपी में रोजगार सेवकों का मानदेय 10,000 रुपये किया जाएगा : राजेंद्र प्रताप सिंह

कई फुटेज में राजेश की गाड़ी दिखी

पुलिस की मानें तो राजेश तोमर सुलतानपुर में अस्पताल से डिस्चार्ज होकर अलीगढ़ में अपने रविन्द्र तोमर से मिलने गाया था. फिर वह नोएडा और दिल्ली के अस्पताल में भर्ती रहा था. विभूतिखंड पुलिस जब नोएडा उसे पकड़ने पहुंची, तब वह उससे पहले ही वह हरियाणा का नम्बर लिखी गाड़ी से भाग निकला था. इसके बाद ही पुलिस ने नोएडा और दिल्ली के बीच मुख्य मार्ग पर लगे सीसी कैमरों की फुटेज देखा. इन फुटेज में कई जगह उसकी गाड़ी दिखी है. इसके अलावा राजेश के दो बेहद करीबियों ने भी पुलिस से पूछताछ में कई राज उगले, जिसके आधार पर ही पुलिस उसके काफी करीब पहुंचने का दावा कर रही है.

लखनऊ : आईआरसीटीसी का पैकेज: 29,600 रुपये में करें शिमला, मनाली की सैर

विपुल सिंह समर्पण की फिराक में

पूर्व सांसद के बेहद करीबी कहे जाने वाले विपुल सिंह की तलाश में पुलिस ने कई टीमें लगा रखी है. पर, उसका कुछ पता नहीं चल रहा है. विपुल सिंह ने ही घायल शूटर राजेश तोमर का इलाज चिनहट के डॉ. निखिल से अलकनंदा अपार्टमेंट में कराया था. इसके बाद ही विपुल ने अपनी गाड़ी से उसे सुलतानपुर में इलाज कराने ले गया जहां तीन दिन भर्ती रहने के बाद वह दिल्ली चला गया था. इंस्पेक्टर चन्द्रशेखर का कहना है कि विपुल के मिलने पर कई और राज खुलेंगे. उधर दावा किया जा रहा है कि विपुल वकीलों के सम्पर्क में है, और जल्दी ही वह कोर्ट में समर्पण कर देगा.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें