अखिलेश यादव बोले- भाजपा उत्पातियों ने सिंघु बार्डर पर किसान आंदोलन पर किया पथराव

Smart News Team, Last updated: Fri, 29th Jan 2021, 5:26 PM IST
  • सिंघु बॉर्डर पर किसानों का विरोध करते हुए भीड़ इकट्ठा हो गई है, जिसने यहां पर पत्थरबाजी की है और किसानों के टेंट उखाड़ दिए गए हैं. सिंघु बॉर्डर पर किसान आंदोलन तीन कृषि कानूनों को वापस लेने के लिए हजारों किसान पिछले दो महीनों से मौजूद हैं
अखिलेश यादव बोले- भाजपा उत्पातियों ने सिंघु बार्डर पर किसान आंदोलन पर किया पथराव

लखनऊ: दिल्ली-हरियाणा के बीच स्थित सिंघु बॉर्डर पर तनाव की स्थिति पैदा हो गई है. किसानों का विरोध करते हुए भीड़ इकट्ठा हो गई है, जिसने यहां पर पत्थरबाजी की है और किसानों के टेंट उखाड़ दिए गए हैं. सिंघु बॉर्डर पर किसान आंदोलन तीन कृषि कानूनों को वापस लेने के लिए हजारों किसान पिछले दो महीनों से मौजूद हैं, लेकिन गणतंत्र दिवस को निकाली गई ट्रैक्टर रैली के उग्र हो जाने और फिर हिंसा होने के बाद स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है.

सपा प्रमुख और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भाजपा पर आरोप लगाते हुए ट्वीट किया है कि "अभी भाजपाई उत्पातियों ने सिंघु बॉर्डर पर किसानों के आन्दोलन पर पथराव किया है. सारा देश देख रहा है कि भाजपा कुछ पूंजीपतियों के लिए कैसे देश के भोले किसानों पर अत्याचार कर रही है. भाजपा की साजिश और बच्चों, महिलाओं व बुजुर्गो किसानों पर की जाने वाली निर्दयता घोर निंदनीय है.

सिंघु बॉर्डर पर अभी भी स्तिथी नाजुक बनी हुई है. सुरक्षा के लिए पुलिस तैनात है. पुलिस उत्पटियों को रोकने एवं हटाने का प्रयास कर रही है. प्रदर्शकारियों को रोकने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले भी छोड़ने पड़े. अभी तक यह पता नहीं चल पाया है कि लोगो की भीड़ प्रदर्शन स्थल तक कैसे पहुंच गई.

UP में वाहनों पर हाई सिक्योरिटी नंबर लगाने की समय सीमा तय, देखें टाइम लाइन

अगर घटना क्रम पर नजर डाले तो मिली जानकारी अनुसार प्रदर्शनकारी भीड़ करीब एक बजे किसानों के धरना स्थल तक पहुंची. कुछ देर बाद भीड़ ने 'देश के गद्दारों को.....' जैसे नारे लगाने शुरू कर दिए और फिर तोड़ फोड़ शुरू कर दिया. फिर भीड़ ने किसानों के टेंट उखाड़ने शुरू कर दिया। देखते देखते पथराव भी शुरू हो गया.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें