अखिलेश यादव बोले - BSP और कांग्रेस तय करें, उनकी लड़ाई बीजेपी से है या सपा से

Smart News Team, Last updated: Sun, 1st Aug 2021, 7:41 PM IST
  • अखिलेश यादव ने पीटीआई से हुए इंटरव्यू में कहा कि बसपा और कांग्रेस को तय करना चाहिए कि उनकी लड़ाई किस से है. बीजेपी से है या समाजवादी पार्टी से. साथ ही उन्होंने आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर कहा कि बीजेपी के खिलाफ चुनाव से पहले गठबंधन के लिए उनकी पार्टी के दरवाजे सभी छोटी पार्टियों के लिए खुले हैं 
अखिलेश यादव बोले - BSP और कांग्रेस तय करें, उनकी लड़ाई बीजेपी से है या सपा से

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारियां जोरों शोरों पर हैं राजनीतिक पार्टियों में गर्मा गर्मी छाई हुई है. इसी बीच समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने पीटीआई से हुए इंटरव्यू में बसपा और कांग्रेस से सवाल किया. अखिलेश यादव ने कहा कि इन पार्टियों (बीएसपी-कांग्रेस) को तय करना चाहिए कि उनकी लड़ाई किस से है. बीजेपी से है या समाजवादी पार्टी से. साथ ही उन्होंने कहा कि इन पार्टियों को तय करना चाहिए कि वे किससे लड़ रहे हैं.

न्यूज एजेंसी पीटीआई से हुए इंटरव्यू के दौरान राज्य में आगामी विधानसभा चुनावों के चलते अखिलेश यादव ने भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ छोटे विपक्षी दलों को भी गठबंधन का न्योता दिया. उन्होंने कहा कि चुनाव से पहले गठबंधन के लिए उनकी पार्टी के दरवाजे सभी छोटी पार्टियों के लिए खुले हैं और वह कोशिश करेंगे कि ऐसे सभी राजनीतिक दल भाजपा को हराने के लिए एक साथ आएं. इतना ही नहीं अखिलेश यादव ने दावा किया है उन्होंने कहा कि कई छोटे दल पहले से ही हमारे साथ हैं और हमारे साथ और भी आएंगे.

गृह मंत्री अमित शाह ने लखनऊ के PGI पहुंचकर यूपी के पूर्व CM कल्याण सिंह का जाना हालचाल

पीटीआई से बातचीत के दौरान जब अखिलेश यादव से सवाल पूछा गया कि उनके चाचा शिवपाल यादव की पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी भी सभी सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है? तो उसके जवाब में उन्होंने कहा कि हम कोशिश करेंगे कि सभी दल बीजेपी को हराने के लिए एकजुट हों. साथ ही ओम प्रकाश राजभर की सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (एबीएसपी) की अगुआई वाली भागीदारी मोर्चा, जिसमें असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम भी शामिल हैं, से जुड़े सवाल पर अखिलेश ने बातचीत करने से साफ इंकार किया उन्होंने जवाब देते हुए कहा कि अभी तक उनसे कोई बातचीत नहीं हुई है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें