यूपी चुनाव: अखिलेश की SP लगाएगी फूलन देवी की मूर्ति, रायबरेली में होगा 20 सितंबर को अनावरण

Ankul Kaushik, Last updated: Sat, 11th Sep 2021, 11:04 AM IST
  • अखिलेश यादव की सामजवादी पार्टी यूपी विधानसभा चुनाव से पहले सपा की पूर्व सांसद फूलन देवी की मूर्ति लगाएगी. इस मूर्ति का अनावरण सपा पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष डॉ.राजपाल कश्यप की मौजूदगी में 20 सितंबर को रायबरेली में होगा.
यूपी चुनाव से पहले सपा लगाएगी फूलन देवी की मूर्ति

लखनऊ. उत्तर प्रदेश चुनाव से पहले सभी पार्टियां जातिकरण समीकरण साधने में लगी हुई हैं. इसी बीच अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी ने मल्लाह वोटर्स को लुभाने का काम शुरू कर दिया है. अब सपा पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष डॉ.राजपाल कश्यप और समाजवादी पार्टी के विधायक एवं प्रबुद्ध सभा के प्रदेश अध्यक्ष डॉक्टर मनोज पांडे की मौजूदगी में समाजवादी पार्टी रायबरेली के ऊंचाहार में सपा की पूर्व सांसद स्व.फूलन देवी की मूर्ति लगाएगी. वहीं रायबरेली के ऊंचाहार कोतवाली क्षेत्र के गांव दास्यु सुंदरी में फूलन देवी की मूर्ति को लेकर तैयारियां अभी से शुरू हो गई हैं. इसके साथ ही फूलन देवी की मूर्ति लगने के इस कार्यक्रम को लेकर प्रशासन भी सतर्क हो गया है. इसके साथ पुलिस ने गांव के प्रधान को भी बिना परमीशन के मूर्ति न लगाने के लिए बोल दिया है.

बता दें कि सपा पूर्व सांसद फूलन देवी निषाद जाति से थीं और निषाद बिरादरी के लोग इन्हें अपना नेता मानते हैं. वहीं सपा से पहले बिहार के सन ऑफ मल्लाह मुकेश सहनी ने भी फूलन देवी की प्रतिमा लगाने की तैयारी की थी लेकिन यूपी सरकार ने उन्हें अनुमति नहीं दी थी. वीआईपी पार्टी अध्यक्ष मुकेश सहनी ने यूपी विधानसभा में चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया था जो कि निषाद वोटर्स के काफी करीबी माने जाते हैं. हालांकि अब देखना ये है निषाद वोटर्स कि बिहार के इस नेता पर भरोसा करेंगे या फिर सपा अध्यक्ष अखिलेश पर.

कानपुर में फूलन देवी के खिलाफ 41 साल से चल रहा केस खत्म, वजह कर देगी हैरान

मासूम लड़की से बैंडिट क्वीन बनने वाली फूलन ने अपनी जीवन में काफी दर्द सहा था. हालंकि फूलन के तेवर बचपन से ही बागी रहे थे. मल्लाह परिवार में जन्मी फूलन देवी को साल 1996 में सपा संरक्षक मुलायम सिंह ने अपनी पार्टी से मिर्जापुर लोकसभा से टिकट दिया और इस चुनाव में उन्होंने जीत हासिल की थी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें