लखीमपुर खीरी: गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र को BJP हाईकमान ने किया तलब, जल्द हो सकता है बड़ा फैसला

Nawab Ali, Last updated: Wed, 6th Oct 2021, 2:13 PM IST
  • लखीमपुर खीरी में गृह राज्य मंत्री के बेटे आशीष कुमार मिश्र पर गाड़ी चढ़ाने के आरोप हैं लेकिन अब पिता गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र की मुश्किलें बढ़ने वाली है. भाजपा हाईकमान ने अजय मिश्र को तलब किया है. सूत्रों से खबर है की भाजपा हाईकमान जल्द अजय मिश्र को कुर्सी से हटा सकता है और इसके आलावा बेटे आशीष कुमार मिश्र की गिरफ्तारी भी हो सकती है.
अजय मुश्र को भाजपा हाईकमान ने तलब किया. (फाइल फोटो)

 लखनऊ. उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में किसानों के प्रदर्शन में गाड़ी से कुचलकर मारे जाने के मामले में गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र के बेटे आशीष कुमार मिश्र और 14 अज्ञात लोगों पर पुलिस ने हत्या समेत कई गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है. अब बड़ी खबर यह है की गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र तेनी को दिल्ली में भाजपा हाईकमान ने तलब किया है. अजय मिश्र दिल्ली में भाजपा हाईकमान से मुलाकात करने पहुंच गए हैं. सूत्रों के हवाले से खबर है कि अजय मिश्र को लेकर हाईकमान बड़ा फैसला ले सकता है. बटे पर लगे आरोप के कारण अजय मिश्र की गृह राज्य मंत्री की कुर्सी खटाई में पड़ती दिख रही है. 

सूत्रों से खबर है कि अजय कुमार मिश्र से भाजपा आलाकमान में काफी नाराजगी है. किसानों को गाड़ी से कुचलकर मारे जाने के मामले में केंद्र व राज्य सरकार की छवि को भारी नुकसान हुआ है. साथ ही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखीमपुर प्रकरण की रिपोर्ट केंद्रीय गृह मंत्रालय को भेज दी है. बताया जा रहा है कि पीएम नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह भी पूरे प्रक्रम से नाराज हैं. प्रकरण में गृह राज्य मंत्री के बेटे आशीष कुमार मिश्र आरोपी हैं लेकिन अभी तक उनकी गिरफ्तारी भी नहीं हुई है. लेकिन इस पूरे प्रकरण में अजय मिश्र टेनी के पर गाज गिर सकती है. 

दिल्ली से उड़े राहुल गांधी, भूपेश बघेल, लखनऊ एयरपोर्ट पर जुटे कांग्रेसी, SSB तैनात

सूत्रों का कहना है कि भाजपा हाईकमान गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी को कुर्सी छोड़ने या बेटे की गिरफ्तारी को लेकर बड़ा फैसला ले सकता है. मुख्यमंत्री योगी ने अधिकारीयों को सख्त निर्देश देते हुए कहा है कि आरोपी कोई भी उसे बख्शा नहीं जायेगा. माना जा रहा है कि आशीष मिश्र की जल्द गिरफ्तारी हो सकती है.   

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें