लखनऊ में महिलाएं नहीं है शराब पीने के मामले में पीछे, कोरोना काल में बढ़ा चलन

Smart News Team, Last updated: Thu, 14th Jan 2021, 2:30 PM IST
लखनऊ में महिलाओं में तेजी से शराब पीने का चलन बढ़ा है. शहर के मॉल्स और इंजीनियरिंग कॉलेज के आसपास की दुकानों में महिलाएं बेधड़क शराब की बोतल खरीदते हुए नजर आती हैं. कोरोना काल और सर्दी के कारण इस मामले में तेजी से वृद्धि हुई है.
लखनऊ में महिलाओं में शराब पीने का चलन बढ़ा है.

लखनऊ. नवाबों के शहर में महिलाएं भी शराब पीने के मामले में पीछे नहीं है. शहर में शॉपिंग मॉल्स और इंजीनियरिंग कॉलेज के आसपास की दुकानों में महिलाएं आपको बेझिझक शराब की बोतल खरीदते हुए दिख जाएंगी. शराब आजकल मध्यमवर्गीय और हाई क्लास सोसाइटी में स्टेटस सिंबल भी बन रही है. इसके अलावा कोरोना काल में बढ़ता डिप्रेशन भी इसका एक प्रमुख कारण है.

शहर के एक शॉपिंग मॉल में शराब की दुकान संचालित कर रहे दुकानदार रोहित का कहना है कि आम तौर पर पहले महिलाएं शराब की दुकानों से दूरी बना कर रखती थी लेकिन अब ऐसा नहीं है. हमारे यहां आने वाले 10 ग्राहकों में से 4 महिलाएं होती हैं. इनमें सबसे अधिक कामकाजी महिलाएं या कॉलेज गर्ल शामिल हैं. रोहित ने यह भी बताया कि जब से सरकार ने शॉपिंग मॉल्स में शराब बेचने की अनुमति दी है तब से महिलाएं खुद आकर शराब खरीदने में संकोच नहीं करती हैं.

लखनऊ पहुंचे एक्टर शेखर सुमन, पॉलिटिकल एंड म्यूजिकल प्रोगाम में लेंगे हिस्सा

इसके अलावा शहर के बड़े रेस्टोरेंट में बार टेंडर अमन का कहना है कि लखनऊ में महिलाएं शराब की शौकीन हैं. हमारे यहां आने वाली अधिकांश महिलाएं वोदका, वाइन या बियर पसंद करती हैं. इसमें सबसे ज्यादा वोदका की डिमांड रहती है और लगातार इसमें बढ़ोतरी हो रही है. इसके अलावा हजरतगंज में बार संचालक ने बताया कि सर्दियों में महिलाएं शराब अधिक पसंद करती हैं. दिवाली के साथ ही वोदका और वाइन की डिमांड बढ़ जाती है. सर्दियों का मौसम शुरू होते ही सभी जगह पार्टियों में अधिकांश महिलाओं का शराब पीना आम बात है. बार में भी कम उम्र की लड़कियां पैग जमाने में पीछे नहीं हैं.

शहर में निजी कॉलेजों और इंस्टिट्यूट के पास की शराब दुकानों में अंग्रेजी शराब के साथ वोदका और ब्रिजर की भी डिमांड रहती है. फैजाबाद रोड पर मुंशी पुलिया से लेकर बाराबंकी तक तमाम दुकानों पर शाम होते ही लड़कियां शराब खरीदते हुए नजर आती हैं. रायबरेली रोड पर भी लड़कियों का एक तबका शराब की बोतल खरीदते हुए दिख जाएगा.

कोरोना काल के कारण नेशनल चैंपियनशिप में अपनी जेब से पैसा लगाकर दौड़ेंगे एथलीट्स

इस मामले में शहर के एक मनोवैज्ञानिक का कहना है कि दरअसल, कोरोना के कारण लंबे समय से लोग घरों में बंद रहे हैं. अब जब लोग घर से बाहर निकल पा रहे हैं तो वे इस पल को एंजॉय करना चाहते हैं. इसी कारण पार्टियों और दोस्तों के बीच महिलाओं और कॉलेज की लड़कियों में शराब पीने का चलन बढ़ा है.

आंकड़ों के मुताबिक कोरोना काल कि चलते वर्ष 2020 में अंग्रेजी शराब की करीब 75-85 लाख बोतल शराबी बिकी. इसके अलावा बियर के करीब डेढ़ करोड़ कैन बिक गए. शराब दुकानदार एसोसिएशन के महामंत्री कन्हैयालाल का कहना है कि वोदका और वाइन की भी सभी जगहों पर डिमांड हो रही है. ग्राहकों में महिलाओं की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है. इसके अलावा आबकारी अधिकारी प्रवीण कुमार ने बताया कि कोरोना के शुरुआती दौर के बाद से ही शराब की बिक्री में लगातार वृद्धि हुई है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें