राजा महेंद्र प्रताप सिंह के नाम से जाना जाएगा AMU सिटी स्कूल, जानें पूरा मामला

Somya Sri, Last updated: Fri, 4th Mar 2022, 10:51 AM IST
  • एएमयू सिटी हाई स्कूल अब राजा महेंद्र प्रताप सिंह के नाम से जाना जाएगा. राजा महेंद्र प्रताप सिंह ने एएमयू के जूनियर विंग (सिटी स्कूल) के लिए 99 साल के लिए जमीन पट्टे पर दी थी. 2020 में एएमयू का लीज समाप्त होने पर राजा के वंशजों ने सिटी स्कूल का नाम राजा महेंद्र प्रताप सिंह के नाम करने की मांग उठाई थी. जिसे एएमयू ने मान लिया है.
राजा महेंद्र प्रताप सिंह के नाम से जाना जाएगा AMU सिटी स्कूल. (फाइल फोटो)

लखनऊ: अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी सिटी हाई स्कूल का नाम राजा महेंद्र प्रताप सिंह होगा. एएमयू सिटी हाई स्कूल अब राजा महेंद्र प्रताप सिंह के नाम से जाना जाएगा. इसके पीछे का कारण है कि राजा महेंद्र प्रताप सिंह के वंशज ने जो 19 हजार वर्ग मीटर जमीन एएमयू को लीज पर दी थी. वो केवल 99 साल की ही थी. ये लीज साल 2020 में समाप्त हो चुकी है. अब वंशजों ने दोबारा ये जमीन एएमयू को दान कर दिया है. इसलिए इंतजामिया ने सिटी स्कूल का नाम बदलने की प्रक्रिया को आगे बढ़ा दिया है.

विश्वविद्यालय प्रशासन का कहना है कि ढाई साल पहले एग्जीक्यूटिव काउंसिल की बैठक में यह तय हो गया था कि यदि राजा के वंशज सिटी स्कूल के जमीन एएमयू को पुन: दान करते है तो स्कूल का नाम राजा के नाम से किया जाएगा. इस मामले में एएमयू के वीसी प्रो. तारिक मंसूर ने कहा, " करीब ढाई साल पहले एग्जीक्यूटिव काउंसिल की बैठक में निर्णय लिया गया था कि यदि राजा के वंशज सिटी स्कूल की जमीन को एएमयू को पुन: दान करते है तो स्कूल का नाम राजा महेंद्र प्रताप के नाम से किया जाएगा. राजा के वंशजों की ओर से स्कूल की जमीन पुन: दान कर दी गई है. ऐसे में स्कूल को अब राजा महेंद्र प्रताप के नाम से किया जाएगा."

यूपी की 12 निजी आयुर्वेद कॉलेजों को हरी झंडी, इन शहरों के कॉलेज में होंगे रजिस्ट्रेशन

बता दें कि राजा महेंद्र प्रताप सिंह ने एएमयू के जूनियर विंग (सिटी स्कूल) के लिए 99 साल के लिए जमीन पट्टे पर दी थी. 2020 में एएमयू का लीज समाप्त होने पर राजा के वंशजों ने एएमयू सिटी स्कूल का नाम राजा महेंद्र प्रताप सिंह के नाम करने की मांग उठाई थी. जिसके बाद विश्वविद्यालय अकादमिक काउंसिल की बैठक ने नाम बदलने का निर्णय शिक्षा मंत्रालय पर छोड़ दिया था. जिसके बाद मंत्रालय ने कहा कि एएमयू अपने एक्ट के मुताबिक इस पर निर्णय ले सकता है.

वहीं एएमयू ने बैठक बुलाकर निर्णय लिया गया कि राजा के वंशज एएमयू को जमीन पुन: दान देते हैं तो नाम बदलकर राजा महेंद्र प्रताप के नाम से किया जाएगा. अब महेंद्र प्रताप सिंह के वंशजों ने 19 हजार वर्ग मीटर एएमयू को दान स्वरूप दे दी है. इसलिए यूनिवर्सिटी ने सिटी स्कूल का नाम राजा महेंद्र प्रताप सिंह करने का निर्णय लिया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें