UP Board Exam: बोर्ड ने कक्षा 9 में शामिल किए वस्तुनिष्ठ प्रश्न, एक एक अंक के 20 क्वेश्चन होंगे

Naveen Kumar Mishra, Last updated: Fri, 5th Nov 2021, 9:59 AM IST
उत्तर प्रदेश बोर्ड के नवमी कक्षा वाली पाठ्यक्रम में इस बार बदलाव देखने को मिला है. इस बार वार्षिक परीक्षा भी अर्धवार्षिक परीक्षा की तरह 70 नंबर की होगी. कक्षा 9 के पाठ्यक्रम में 30 फीसदी प्रश्न बहुवैकल्पिक होंगे. बोर्ड की ओर से मिली जानकारी के अनुसार 10वीं और 12वीं के पाठ्यक्रमों में फिलहाल कोई बदलाव नहीं किया जाएगा.
बोर्ड ने कक्षा 9 में शामिल किए वस्तुनिष्ठ प्रश्न

लखनऊ। नई शिक्षा नीति को लागू करने की प्रक्रिया यूपी बोर्ड ने शुरू कर दी है. उत्तर प्रदेश बोर्ड के नवमी कक्षा वाली पाठ्यक्रम में इस बार बदलाव देखने को मिला है. इस बार वार्षिक परीक्षा भी अर्धवार्षिक परीक्षा की तरह 70 नंबर की होगी. वहीं पूरे सत्र में 30 नंबर का क्वेश्चन अतिरिक्त मूल्यांकन के आधार पर दिया जाएगा. नए सेशन 2021-22 के लिए नौवीं की परीक्षा में अब मल्टीपल चॉइस क्वेश्चंस यानी बहुवैकल्पिक प्रश्न को शामिल किया जाएगा. मिली जानकारी के अनुसार कक्षा 9 के पाठ्यक्रम में 30 फीसदी प्रश्न बहुवैकल्पिक होंगे.

 

50 प्रश्न होंगे सब्जेक्टिव टाइप

बोर्ड की ओर से मिली जानकारी के अनुसार कुल 70 नंबरों पर परीक्षा आयोजित करवाई जाएगी और 30 नंबर स्कूली गतिविधियों के आधार पर दी जाएगी. 20 नंबरों के लिए बहुविकल्पीक प्रश्नों को शामिल किया जाएगा. इसके लिए परीक्षार्थियों को ओएमआर शीट दिया जाएगा. 50 नंबरों का लघु उत्तरीय और दीर्घ उत्तरीय प्रश्न पूछे जाएंगे.

दिवाली के बाद काम पर वापस जाने वालों की मुश्किलें बढ़ी, कई दिन तक ट्रेनों में सीट फुल

10वीं और 12वीं के पाठ्यक्रम में कोई बदलाव नहीं

बोर्ड की ओर से मिली जानकारी के अनुसार 10वीं और 12वीं के पाठ्यक्रमों में फिलहाल कोई बदलाव नहीं किया जाएगा. मिली जानकारी के अनुसार इन परीक्षाओं के लिए 70 अंकों की परीक्षा आयोजित की जाएगी और 30 अंक स्कूली गतिविधियों के आधार पर दिया जाएगा. बोर्ड ने साफ कहा है कि 10वीं और 12वीं के छात्रों को पूरे 70 अंकों का लिखित परीक्षा देना होगा. जिला विद्यालय निरीक्षक गिरजेश कुमार चौधरी ने कहा कि बोर्ड की ओर से जारी यह बदलाव के बारे में सभी स्कूल अपने शिक्षकों और छात्रों, अभिभावकों को इसकी जानकारी देंगे.

रविकिशन ने गोरखपुर में खरीदा अपना घर, बोले- यही मेरा परमानेंट ऐड्रेस

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें