राजभर के नेतृत्व में UP चुनाव लड़ेंगे ओवैसी, शिवपाल से भी गठबंधन की अटकल

Smart News Team, Last updated: 16/12/2020 09:24 PM IST
  • यूपी विधानसभा चुनाव 2022 में असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एमआईएम) भागीदारी संकल्प मोर्चा में सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के मुखिया ओम प्रकाश राजभर के नेतृत्व में चुनाव लड़ेगी. प्रसपा को भी गठबंधन में लाने की अटकलों पर ओवैसी ने कहा है कि वह इसपर शिवपाल से मिलेंगे.
राजभर के साथ गठबंधन में यूपी चुनाव 2022 लड़ेगी ओवैसी की AIMIM, शिवपाल से होगी बात

लखनऊ. बिहार चुनाव में बतौर नई पार्टी अच्छा प्रदर्शन करने वाली असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम की नजर अब उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 पर टिकी है. इसी को लेकर बुधवार को ओवैसी ने सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के मुखिया ओम प्रकाश राजभर के भागीदारी संकल्प मोर्चा में शामिल होने का ऐलान कर दिया है. आप मुखिया अरविंद केजरीवाल की चुनाव में उतरने की घोषणा के बाद ओवैसी ने ऐलान करते हुए कहा कि उनकी पार्टी यूपी 2022 का चुनाव राजभर के नेतृत्व में लड़ेगी. वहीं प्रसपा को गठबंधन में शामिल करने की अटकलों पर असदुद्दीन ओवैसी ने कहा है कि वह इसपर प्रसपा प्रमुख शिवपाल यादव मिलेंगे.

राजधानी लखनऊ में योगी सरकार के पूर्व मंत्री और बीजेपी के पुराने साथी ओम प्रकाश राजभर के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए ओवैसी ने कहा कि राजनीति के दौर में दो नेता एक जगह मिलते हैं तो उसका मतलब आप लोग जानते हैं, आज हमारी बातचीत हुई. एआईएमआईएम भागीदारी मोर्चा के साथ रहेगी.

अरविंद केजरीवाल की 'आप' के बाद असदुद्दीन ओवैसी की MIM भी लडे़गी यूपी विधानसभा चुनाव

ओवैसी ने आगे कहा कि जनवरी में भविष्य का प्रोग्राम बनेगा और बैठके होंगी. उन्होंने कहा कि बिहार में उनकी पार्टी को जो कामयाबी मिली है उसमें ओम प्रकाश राजभर का बड़ा योगदान रहा है. बिहार की कामयाबी से होसला मिला है और उस सिलसिले को जारी रखेंगे. 

सिसोदिया को स्वीकार योगी सरकार के मंत्री की चुनौती, कहा- 22 दिसंबर को आ रहा हूं

मालूम हो कि सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी चीफ ओम प्रकाश राजभर साल 2019 तक यूपी में योगी आदित्यनाथ सरकार की कैबिनेट में शामिल थे. बीजेपी से गठबंधन तोड़ने के कुछ समय पहले से ही वे अपने तेवर दिखा रहे थे. 2019 लोकसभा चुनाव में उन्होंने अपनी पार्टी के लिए पांच टिकटों की मांग की थी जो भाजपा ने नहीं मानी. उसी दौरान उन्होंने योगी सरकार में मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था. 

योगी सरकार का बड़ा कदम, शिक्षक, पत्रकार और वकीलों को बनाकर देगी घर 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें