लखनऊ : बच्चों की मदद से मोबाइल चोरी करने वाले गैंग के तीन बदमाशों गिरफ्तार

Smart News Team, Last updated: Thu, 4th Feb 2021, 9:55 AM IST
  • आशियाना पुलिस ने बच्चों की मदद से मोबाइल चोरी करने वाले गैंग के तीन बदमाशों को गिरफ्तार किया है। इनके पास से करीब 24 लाख रुपये के मोबाइल फोन मिले हैं। यह लोग बच्चों को ट्रेनिंग देकर मोबाइल चोरी करवाते थे। ये बच्चे इनके कहने पर भीड़भाड़ वाले इलाकों में जाकर  वारदात करते थे।
फाइल फोटो

 

 लखनऊ : आशियाना पुलिस ने मोबाइल चोरों के एक ऐसे गैंग को गिरफ्तार किया है जो बाजारों और भीड़-भाड़ वाले इलाकों में बच्चों से फोन चोरी करवाता था। बच्चों के पकड़े जाने पर उनकी मदद के लिए शातिर चोर उनके आस-पास ही मौजूद रहते थे। पकड़े गए चोरों के पास से पुलिस ने चोरी के 118 फोन बरामद किए हैं। बरामद किए गए फोन की कीमत करीब 23 लाख 60 हजार रुपये के आसपास है।

इंस्पेक्टर आशियाना केशव कुमार तिवारी ने बताया कि आशियाना और आसपास के इलाकों में पिछले कुछ दिनों से फोन चोरी की घटनाओं में इजाफा हुआ था। इस पर क्राइम टीम और आशियाना पुलिस को अलर्ट किया गया। छानबीन कर रही पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर आशियाना के देवी खेड़ा इलाके में किराए पर कमरा लेकर रह रहे कुछ लोगों को हिरासत में लिया। तलाशी में पुलिस को उनके कमरे से भारी मात्रा में फोन मिले। इंस्पेक्टर ने बताया कि पकड़े गए आरोपितों की पहचान झारखंड के साहबगंज निवासी देवराज, सुनील और रजत नोनिया के रूप में हुई। पकड़े गए रजत और सुनील भाई हैं।

बच्चों को देते थे ट्रेनिंग : पूछताछ में आरोपितों ने पुलिस को बताया कि वह अपने बच्चों को फोन चोरी करने की ट्रेनिंग देते हैं। हालांकि फोन चोरी करते समय वह उनके आसपास ही रहते हैं। पकड़े जाने पर भीड़ में वहीं लोग बच्चों को पीटते और मासूम पर दया भाव दिखाकर उसे छुड़वा देते थे।

ट्रक ड्राइवर मारपीट केस: पेश हुए मोहसिन रजा, गवाहों की गैर हाजिरी पर कोर्ट सख्त

500 फोन इकठ्ठा होने पर लौट जाते थे झारखंड : डीसीपी पूर्वी सजीव सुमन ने बताया कि छानबीन के दौरान चोरों के पास से बरामद फोन की आईएमईआई नंबर रन करवाया गया। इस दौरान पता चला की बरामद फोन अलग-अलग जनपद से चोरी किए गए हैं। पूछताछ में आरोपितों ने बताया कि वह अलग-अलग जनपद में किराए का कमरा लेकर रहते और फोन चोरी करते थे। इस दौरान 500 फोन इकट्ठा होने के बाद झारखंड लौट जाते और वहां उसका आईएमईआई नंबर बदलवाकर उसे अच्छे दामों में बेंच देते थे। डीसीपी ने बताया कि चोरों के गिरोह में और लोगों के शामिल होने की आशंका है।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें