सौहार्द: अयोध्या मस्जिद को दान देने वाला पहला हिंदू, दिया 21 हजार का चेक

Smart News Team, Last updated: 03/10/2020 09:38 PM IST
  • अयोध्या में मस्जिद निर्माण में शनिवार को हिन्दू-मुस्लिम एकता की मिसाल देखने को मिली. मस्जिद निर्माण के लिए पहला दान एक हिन्दू ने 21 हजार रुपए देकर शुरूआत की. जिसे इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन ने गंगा जमुनी तहजीब का बेहतर उदाहरण बताया.
शनिवार को रोहित श्रीवास्तव ने मस्जिद निर्माण के लिए 21 हजार रुपए का दान देकर हिन्दू-मुस्लिम एकता की मिसाल पेश की.

लखनऊ. अयोध्या में राम मंदिर के साथ मस्जिद का भी निर्माण किया जा रहा है. इसके लिए मस्जिद ने लोगों से मदद करने की गुहार लगाई है. जिसके बाद मस्जिद सबसे पहला दान एक हिन्दू ने दिया है. शनिवार को अयोध्या में बन रही मस्जिद के लिए रोहित श्रीवास्तव ने 21 हजार रुपए का दान देकर हिन्दू-मुस्लिम एकता की मिसाल पेश की है. रोहित के इस दान को इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन ने गंगा जमुनी तहजीब का बेहतर उदाहरण बताया.

मस्जिद के लिए हिन्दू का ये दान गंगा-जमुनी तहजीब का शानदार उदाहरण है. लखनऊ यूनिवर्सिटी के लॉ डिपार्टमेंट के रोहित श्रीवास्तव ने शनिवार को अयोध्या में बनने वाली मस्जिद के लिए सबसे पहले 21 हजार रुपए का चेक देकर दान दिया. अयोध्या में मस्जिद निर्माण के लिए इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन का गठन किया है. अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट को जहां देश विदेश से दान मिल रहा है. रोहित श्रीवास्तव के दान से मस्जिद को भी दान मिलने की शुरूआत हो चुकी है.

सीएम योगी आदित्यनाथ ने सीबीआई को सौंपी हाथरस गैंगरेप की जांच

मस्जिद निर्माण में दान देने के लिए रोहित श्रीवास्तव ने इंडो कल्चर फाउंडेशन के सचिव व प्रवक्ता अतहुर हुसैन और ट्रस्टी मोहम्मद रशीद के साथ मुलाकात की. रोहित की इस पहल पर अतहर हुसैन ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि उनका ये कदम गंगा-जुमना तहजीब का शानदार उदाहरण प्रस्तुत कर रहे हैं. 

राम भक्तों के लिए खुशखबरी! नवरात्रि के पहले दिन से शुरू होगा मंदिर निर्माण

आपको बता दें कि इससे पहले इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन ने कहा था कि वे मस्जिद के निर्माण के लिए सिर्फ जायज पैसों को स्वीकार करेंगे. गलत तरीके से कमाए गए पैसों को मस्जिद निर्माण के लिए स्वीकार नहीं किया जाएगा. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के तहत अयोध्या में मस्जिद के लिए पांच एकड़ जमीन पर मस्जिद और अस्पताल के साथ कई भवनों का निर्माण होना है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें