राम भक्तों के लिए खुशखबरी! नवरात्रि के पहले दिन से शुरू होगा मंदिर निर्माण

Smart News Team, Last updated: 03/10/2020 09:10 PM IST
  • नवरात्रि के पहले दिन से ही राममन्दिर निर्माण का काम शुरु हो जाएगा. 
प्रतीकात्मक तस्वीर 

लखनऊ: नवरात्रि के पहले दिन से आयोध्या में श्री राम मंदिर का निर्माण का काम शुरु करने का फैसला किया गया है. इस नवरात्र से मंदिर के नींव स्तंभों की स्थापना के साथ ही राम मंदिर के निर्माण काम शुरू हो जाएगा.  श्री राम जन्मभूमि तीर्थ न्यास के अध्यक्ष महंत नृसिंह गोपाल दास के उत्तराधिकारी महंत कमल नयास दास ने कहा, तब तक खंभों का चल रहा परीक्षण कार्य खत्म हो जाएगा.

 जानकारी के मुताबिक वर्षों से प्रतिक्षीत राम मंदिर का निर्माण कार्य नवरात्रि के पहले दिन यानी 17 अक्टूबर से शुरु हो जाएगा. इस मामले में महंत कमल दास ने कहा- नवरात्रि को बहुत पवित्र माना जाता है इस कारण इस शुभ त्यौहार के मौके पर मंदिर का निर्माण शुरु करने का मौका नहीं चूकना चाहिए. लार्सन एंड टर्बों के देख-रेख में चल रही मंदिर की नींव के 12 खंभो की टेस्टिंग   अक्टूबर के मध्य तक खत्म हो जाएगी. जिसके बाद आईआईटी चेन्नई के विशेषज्ञ अयोध्या आएंगे और टेस्टिंग के अंतिम चरण को पूरा करेंगे.

राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट तय करेगा 11 करोड़ रामभक्तों से मिलने की तिथि

आपको बता दें कि श्री राम जन्मभूमि तीर्थ ट्रस्ट ने 11 सितंबर को राम मंदिर के लिए नींव के खंभों की जांच के लिए पाइलिंग का काम शुरू कर दिया था. बताया जा रहा है कि मंदिर की नींव तैयार करने के लिए सतह से करीब 100 फीट नीचे करीब 1,200 खंभे खड़े किए जाएंगे. तकनीकी दृष्टि से इस प्रक्रिया को पाइलिंग कहा जाता है. करीब 15 अक्टूबर से सभी की टेस्टिंग खत्म होने के बाद शेष खंभे खड़े कर दिए जाएंगे.

अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन के बाद लखनऊ में सीएम योगी ने दीया जलाया

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस साल 5 अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर के 'भूमि पूजन' समारोह की अध्यक्षता की थी. अयोध्या प्रशासन ने महामारी के चलते इस साल अप्रैल में होने वाले नवरात्र मेले को रद्द कर दिया था. हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि नवरात्र मेला कराया जाएगा या नहीं. बता दें कि हिंदू कैलेंडर के अनुसार, नवरात्र साल में दो बार होते हैं- अप्रैल और अक्टूबर में जिन्हें चैत्र और शारदीय नवरात्रि के नाम से जाना जाता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें