लखनऊ में 16 दिसंबर से बाबू बनारसी दास क्रिकेट लीग शुरू, पूर्वांचल लीग स्थगित

Smart News Team, Last updated: 07/12/2020 09:57 PM IST
  • राजधानी के क्रिकेटरों के लिए एक अच्छी खबर है. क्रिकेट एसोसिएशन लखनऊ प्रतिष्ठित बाबू बनारसी दास क्रिकेट लीग 16 दिसम्बर से शुरू करने जा रहा है. सीएएल के सचिव खलीक ने बताया कि पहले पिछले सत्र के बचे हुए मुकाबले कराए जाएंगे. इन्हें जनवरी के पहले सप्ताह तक खत्म किया जाएगा. इसके बाद नए सत्र की लीग 10 जनवरी से होगी.
पहले पिछले सत्र के बाकी बचे मुकाबले कराए जाएंगे

लखनऊ- राजधानी के क्रिकेटरों के लिए एक अच्छी खबर है. क्रिकेट एसोसिएशन लखनऊ प्रतिष्ठित बाबू बनारसी दास क्रिकेट लीग 16 दिसम्बर से शुरू करने जा रहा है. इस लीग के साथ लॉकडाउन के बाद राजधानी में अधिकारिक तौर खेल की गतिविधियां शुरू हो जाएंगी. उधर, दिसम्बर में केडी सिंह बाबू स्टेडियम में शुरू होने वाली पूर्वांचल लीग को स्थगित कर दिया गया है.

हर साल होने वाले इस प्रतियोगिता में राजधानी के हर आयु के क्रिकेटर शामिल होते हैं. इस साल इस लीग के मुकाबले मार्च के दूसरे सप्ताह तक हुए. इसके बाद कोरोना संक्रमण के कारण लीग स्थगित कर दी गई. सीएएल के सचिव खलीक ने बताया कि पहले पिछले सत्र के बचे हुए मुकाबले कराए जाएंगे. इन्हें जनवरी के पहले सप्ताह तक खत्म किया जाएगा. इसके बाद नए सत्र की लीग 10 जनवरी से होगी.

लखनऊ फुटबॉल लीग में खेल रहे हैं नाइजीरिया के दस विदेशी खिलाड़ी

सीएएल ने अपने से संबद्ध क्लबों और अकादमी से कहा कि जिनकी प्रतियोगिताएं कोरोना के कारण मार्च में रुक गई थीं वे भी शुरू करा सकते हैं. उन्हें पहली जनवरी तक सभी प्रतियोगिताएं खत्म करनी होंगी. बताते चलें कि दिसंबर में राजधानी में पूर्वांचल क्रिकेट लीग होनी थी. आईपीएल की तर्ज पर होने वाली इस लीग को प्रशासन से अनुमति नहीं मिलने से फिलहाल इसे स्थगित कर दिया गया है. बताया जा रहा है कि अब यह लीग फरवरी के प्रथम सप्ताह से शुरू होगी.

लखनऊ में हिरासत में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, बोले-भाजपा कर रही लोकतंत्र की हत्या

UPPCL JE भर्ती: जूनियर इंजीनियर पद के लिए निकली वैकेंसी, जानिए कैसे करें आवेदन

योगी सरकार ने सांसद आजम खान के पिता के नाम पर बने पार्क का नाम बदला

गर्मिन स्टेडियम 2020 में अजंलि चौरसिया का शानदार प्रदर्शन, लगाई 75.65 KM की दौड़

CM योगी ने भारत बंद पर की प्रेस कॉन्फ्रेंस, कहा-किसानों को गुमराह किया जा रहा है

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें