लखनऊ विश्वविद्यालय में पीएचडी प्रवेश पर लगी रोक हटी

Smart News Team, Last updated: 08/12/2020 03:12 PM IST
  • कुलपति प्रो. आलोक कुमार राय का दावा है कि प्रवेश प्रक्रिया इसी सप्ताह से शुरू हो जाएगी. पीएचडी प्रवेश में गरीब सवर्ण वर्ग के अभ्यर्थियों को 10 प्रतिशत आरक्षण का लाभ न दिए जाने के कारण प्रक्रिया रोक दी गई थी.
लखनऊ विश्वविद्यालय

लखनऊ: लखनऊ विश्वविद्यालय में पीएचडी प्रवेश पर लगी रोक हटा दी गई है. कुलपति प्रो. आलोक कुमार राय का दावा है कि प्रवेश प्रक्रिया इसी सप्ताह से शुरू हो जाएगी. बीते दिनों पीएचडी प्रवेश में गरीब सवर्ण वर्ग के अभ्यर्थियों को 10 प्रतिशत आरक्षण का लाभ न दिए जाने के कारण प्रक्रिया रोक दी गई थी.

ईडब्ल्यूएस आरक्षण को लेकर उठे विवाद के बाद विश्वविद्यालय में पीएचडी प्रवेश में भी इसे लागू कर दिया गया है. ऐसे में उम्मीद जताई जा रही है कि पीएचडी की करीब 30 अतिरिक्त सीटों पर दाखिले होंगे. यह अनुमानित संख्या है. कुलपति ने बताया कि जिन विभागों में 10 या उससे ज्यादा सीट हैं उनमें ईडब्ल्यूएस वर्ग के अभ्यर्थियों को आरक्षण का लाभ मिलेगा. सीट का ब्योरा जल्द जारी किया जाएगी. उन्होंने बताया कि करीब 25 से 30 सीट बढ़ने की उम्मीद है.

लखनऊ में अटल बिहारी वाजपेयी फाउंडेशन का गठन, 25 दिसंबर को मनाया जाएगा अटल दिवस

इन विभागों में हैं दस या उससे ज्यादा सीट

अर्थशास्त्र (16), अंग्रेजी (21), हिन्दी (40), पर्शियन (10), दर्शनशास्त्र (16), संस्कृत (10), समाजशास्त्र (40), सांख्यिकी (10), जूलॉजी (22), अप्लाइड इकोनोमिक्स (14), वाणिज्य (21), विधि (38), बॉटनी (19), केमेस्ट्री (23), जियोलॉजी (11), गणित (15), फिजिक्स (42).

स्मार्ट सिटी में सरकारी मॉल बनाने का प्रस्ताव, कमिश्नर लेंगे फैसला

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें