IDSP प्रभारी की बड़ी लापरवाही, गलत नाम-पते दर्ज कर बताया उन्हें डेंगू मरीज

Somya Sri, Last updated: Fri, 1st Oct 2021, 2:07 PM IST
  • उत्तर प्रदेश के बरेली में आईडीएसपी प्रभारी की बड़ी लापरवाही देखने को मिली है. आईडीएसपी प्रभारी डॉ. मसीम अब्बास ने जिला मलेरिया अधिकारी को डेंगू मरीजों के नाम का जो रिपोर्ट भेजा है. उसमें कुछ के नाम गलत चढ़े हैं, तो कहीं पता गलत हैं, तो कहीं मोबाइल नंबर ठीक नहीं है. जब जिला मलेरिया विभाग की टीम डेंगू प्रभावित इलाके में निरोधात्मक कार्रवाई करने गई. तो कई ऐसे नाम सामने आए जिसका कोई मरीज ही नहीं मिला.
IDSP प्रभारी की बड़ी लापरवाही, गलत नाम-पते दर्ज कर बताया उन्हें डेंगू मरीज (प्रतिकात्मक फोटो)

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के बरेली में आईडीएसपी प्रभारी की बड़ी लापरवाही देखने को मिली है. जिले में मलेरिया के केस में कमी आ रही है लेकिन डेंगू के केस में कमी न देखते हुए जब जांच की गई. तो, पता चला कि बढ़ते केस के पीछे काफी हद तक इंटीग्रेटेड डिसीज सर्विलांस प्रोग्राम यानि आईडीएसपी सेल प्रभारी व एपिडेमियोलॉजिस्ट की लापरवाही है. आईडीएसपी प्रभारी डॉ. मसीम अब्बास ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी और जिला मलेरिया अधिकारी को डेंगू मरीजों के नाम का जो रिपोर्ट भेजा है. उसमें कुछ के नाम गलत चढ़े हैं, तो कहीं पता गलत हैं, तो कहीं मोबाइल नंबर ठीक नहीं है.

मिली जानकारी के मुताबिक जब जिला मलेरिया विभाग की टीम डेंगू प्रभावित इलाके में निरोधात्मक कार्रवाई करने गई. तो कई ऐसे नाम सामने आए जिसका कोई मरीज ही नहीं मिला. कुछ जगह पता ही हाथ नहीं लगा. वहीं कुछ मोबाइल नंबर पर फोन किया गया तो नंबर ही ठीक नहीं था. जिसके बाद आईडीएसपी प्रभारी की लापरवाही का पता चला.

रास्ता भटकी लड़की को बंधक बनाकर महिला ने पति से कराया रेप फिर काट दी जीभ

बता दें कि बरेली जिले में अभी तक 48 डेंगू केस मिले हैं. उनमें सबसे ज्यादा मामले भोजीपुरा सीबीगंज और बिथरी चैनपुर के हैं. भोजीपुरा और सीबीगंज से अबतक 7 डेंगू के मामले सामने आ चुके हैं. जिले में लगातार बढ़ते केस को देखकर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ बलबीर सिंह और जिला मलेरिया अधिकारी डॉ देशराज सिंह ने जिले के कई ग्रामीण इलाकों में लोगों को जागरूक करने का काम किया. उन्होंने मच्छरों के पनपने वाली जगह पर मिट्टी का तेल डाला और समय-समय पर पानी इक्कठा होने वाली जगहों को खाली करने का सुझाव दिया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें