पांच लाख का चेक इश्यू करने से पहले देनी होगी बैंक को सूचना, तभी होगा भुगतान

Smart News Team, Last updated: Sat, 2nd Jan 2021, 9:50 AM IST
  • पांच लाख या उससे अधिक का चेक इश्यू करने पर बैंक को पहले से सूचना देनी होगी। इससे उसकी डिटेल एनपीसीआई पर रजिस्टर हो जाएगी। इस स्थिति में भुगतान के लिए जैसे ही चेक पहुंचेगा, यह यह स्पष्ट रहेगा कि वह सही है। चेक संबंधी फ्रॉड रोकने के लिए यह एक सार्थक कदम साबित होगा।
फाइल फोटो

लखनऊ : बीते कुछ वर्षों में चेक क्लोनिंग और फ्रॉड के तमाम मामले सामने आए हैं। इससे बचने के लिए आरबीआई की ओर से पॉजिटिव पेमेंट सिस्टम (पीपीएस) को लागू कर दिया गया है।  इसके तहत पहली जनवरी से पांच लाख या उससे अधिक की रकम का चेक काटने से पूर्व ग्राहक को चेक संबंधी ब्योरा बैंक को देना होगा। इसके लिए ग्राहक को अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से एसएमएस या मोबाइल एप, इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से चेक संबंधी सूचना देनी होगी।

वार्षिक राशिफल 2021: जानें कैसा रहेगा आपका नया साल, किन राशियों की चमकेगी किस्मत

लखनऊ आरबीआई महाप्रबंधक पंकज कुमार के मुताबिक, पहली जनवरी से पॉजिटिव पेमेंट सिस्टम लागू कर दिया गया है।  नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) द्वारा चेक ट्रंकेटेड सिस्टम (सीटीएस) में पॉजिटिव पे संबंधी जरूरी सुविधा बैंकों के लिए उपलब्ध करवाई जाएगी। सीटीएस की शिकायत निवारण प्रकोष्ठ में भी उन्हीं मामलों का निस्तारण किया जाएगा, जिसमें इस प्रक्रिया का पालन पहले ही किया गया हो। 

ग्रेटर नोएडा से लखनऊ आ रही छात्रा से पूरे रास्ते बस में छेड़खानी करने वाला चालक

उन्होंने कहा कि बैंक ग्राहक की जिम्म्मेदारी बनती है कि भुगतान से जुड़ी जरूरी जानकारी जैसे बेनिफिशियरी का नाम, तारीख, रकम इत्यादि इलेक्ट्रॉनिक माध्यमों (एसएमएस, मोबाइल एप, इंटरनेट बैंकिंग, एटीएम सहित अन्य साधनों) से बैंक को उपलब्ध कराए। पांच लाख या उससे अधिक का चेक इश्यू करने पर बैंक को पहले से सूचना देनी होगी। इससे उसकी डिटेल एनपीसीआई पर रजिस्टर हो जाएगी। इस स्थिति में भुगतान के लिए जैसे ही चेक पहुंचेगा, यह यह स्पष्ट रहेगा कि वह सही है। चेक संबंधी फ्रॉड रोकने के लिए यह एक सार्थक कदम साबित होगा।

मालूम हो कि अब तक बैंक ग्राहक को फोनकर चेक भुगतान के लिए कंफर्म करता था, लेकिन एक जनवरी से ये जिम्मेदारी ग्राहकों को उठानी होगी। अन्यथा बैंक पेमेंट नहीं करेंगे।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें