पेट्रोल-डीजल के बाद योगी सरकार कम कर सकती है बिजली के दाम, 2 करोड़ उपभोक्ताओं को राहत

Shubham Bajpai, Last updated: Mon, 8th Nov 2021, 8:31 PM IST
  • यूपी चुनाव 2022 से पहले योगी सरकार प्रदेशवासियों को सस्ती बिजली का तोहफा दे सकती है. जिससे प्रदेश के करीब 2 करोड़ घरेलू उपभोक्ताओं को फायदा हो सकता है. पंजाब, उत्तराखंड में बिजली के दाम कम होने के बाद लगातार कयास लगाए जा रहे हैं कि प्रदेश की भाजपा सरकार जल्द ही बिजली के दामों में कटौती कर सकती है.
UP चुनाव से पहले योगी सरकार कम कर सकती बिजली के दाम, 2 करोड़ उपभोक्ताओं को फायदा

लखनऊ. यूपी विधानसभा चुनाव से पहले प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार जनता को लुभाने के लिए हर प्रयास कर रही है. पहले पेट्रोल और डीजल में वैट कम कर जनता को राहत देने के बाद योगी सरकार अब बिजली के दाम भी घटाकर जनता को दोहरी राहत दे सकती है. सरकार यदि बिजली के दाम घटती है तो इसका सीधा फायदा प्रदेश के 2 करोड़ घरेलू उपभोक्ताओं को होगा.

पंजाब और उत्तराखंड घटा चुके हैं बिजली के रेट

देश में उत्तर प्रदेश के साथ पंजाब और उत्तराखंड में भी चुनाव होने वाले हैं. जिसको देखते हुए पंजाब की चन्नी सरकार और उत्तराखंड की धामी सरकार बिजली के दामों में कटौती कर चुकी है. जिसके बाद अब योगी सरकार भी जल्द बिजली दाम में कटौती कर सकती है.

अब से कोटेदारों को दिखाना होगा कोरोना वैक्सीन सर्टिफिकेट, वरना नहीं मिलेगा फ्री राशन

पहले ही यूपी विद्युत उपभोक्ता परिषद कर चुका दाम कम करने की मांग

प्रदेश सरकार से विद्युत उपभोक्त परिषद पहले ही कई बार दाम कम करने की मांग कर चुका है. परिषद का कहना है कि बिजली कंपनियों के पास उपभोक्ताओं के करीब 20,596 करोड़ जमा है जिसके आधार पर वो बिजली के दाम कम कर सकती है. इसकी मांग को लेकर विद्युत नियामक आयोग में सिंतबर में याचिका दायर कर चुका है, जिसकी रिपोर्ट अभी तक नहीं है. वहीं, आयोग इसकी रिपोर्ट मांग चुका है, लेकिन अभी तक बिजली कंपनियों ने कोई जवाब नहीं दिया है.

सपा ने शुरू से दलितों- पिछड़ों की तिरस्कारी, अब वोट के लिए नाटकबाजी- मायावती

अभी 3 से लेकर 6 रुपये तक है घरेलू बिजली के दाम

वर्तमान में बात करें तो प्रदेश में ग्रामीण उपभोक्ताओं को बिजली की दर प्रति यूनिट 3.35 रुपये से लेकर 5 रुपये तक देना पड़ रहा है. जिसमें यूनिट के अनुसार रेट बदल जाते हैं. यदि व से लेकर 100 यूनिट खर्च है तो 3.35 रुपये, 101 से 150 तक तो 3.85 रुपये और 151-300 यूनिट तो 5 रुपये प्रति यूनिट देना होता है. वहीं, शहरों के उपभोक्ता को प्रति यूनिट 3.35 रुपये से लेकर 6 रुपये तक देना पड़ता है. जिसमें 0 से 100 यूनिट तक 3.35 रुपये, 101-150 यूनिट तक 3.85 रुपये, 151 से 300 यूनिट तक 5 रुपये, 301-500 यूनिट तक 5.50 रुपये और 500 से अधिक पर प्रति यूनिट 6 रुपये तक देना पड़ता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें