UP Election: पूर्व सासंद राकेश पांडेय समेत कई नेताओं ने थामा सपा का दामन

ABHINAV AZAD, Last updated: Mon, 3rd Jan 2022, 5:15 PM IST
  • उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले कई नेताओं ने समाजवादी पार्टी का दामन थाम लिया. अम्बेडकर नगर से पूर्व सासंद राकेश पांडेय सपा में शामिल हो गए. वहीं पूर्व एमएलसी कांती सिंह और प्रतापगढ़ से पूर्व विधायक बृजेश मिश्रा सौरभ ने भी समाजवादी पार्टी का दामन थाम लिया.
लखनऊ में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ओमप्रकाश राजभर संग प्रेसवार्ता की.

लखनऊ. सोमवार को कई नेताओं ने सपा का दामन थामा. अम्बेडकर नगर से पूर्व सासंद राकेश पांडेय सपा में शामिल हो गए. वहीं बहराइच से वर्तमान बीजेपी विधायक माधुरी वर्मा ने सपा का दामन थाम लिया. इसके अलावा पूर्व एमएलसी कांती सिंह और प्रतापगढ़ से पूर्व विधायक बृजेश मिश्रा सौरभ समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए. बताते चलें कि लखनऊ में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ओमप्रकाश राजभर के साथ प्रेसवार्ता की. इस प्रेसवार्ता में उन्होंने बीजेपी सरकार पर जमकर निशाना साधा.

इससे पहले सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने प्रेसवार्ता की. इस प्रेसवार्ता में अखिलेश के साथ ओमप्रकाश राजभर भी मौजूद रहे. इस दौरान सपा अध्यक्ष ने कहा कि मुख्यमंत्री ने अगर अच्छे से काम किया होता तो बिजली की कमी नहीं होती. हमारे अनुपयोगी मुख्यमंत्री अगर ध्यान देते तो पॉवरप्लांट जल्दी तैयार हो जाते. अखिलेश ने कहा कि जब 300 यूनिट फ्री देने का वादा किया है, उसके पीछे तमाम योजनाएं है जो पूरी की जाएगी. उन्होंने आगे कहा कि बीजेपी के लंबे-लंबे भाषणों में किसानों की बात नहीं होती. बीजेपी की नजर वोट पर है. साथ ही अखिलेश यादव ने कहा कि बीजेपी ने वोट की खातिर कृषि कानूनों को वापस लिया.

CM योगी के बाद अब SP अध्यक्ष अखिलेश यादव ने दिए चुनाव लड़ने के संकेत, कही ये बात

इस दौरान ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि मैंने तीन साल पहले ही कहा था कि बीजेपी को हटाएंगे, अब यह काम होने जा रहा है. अखिलेश की तरफ इशारा करते हुए उन्होंने कहा कि हमारे भावी मुख्यमंत्री बगल में है, सरकार के बनने पर भी साथ बैठेंगे. बीजेपी की सरकार में सपा से ज्यादा गुंडई है. वहीं सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि जिस दिन से नए साल पर 300 यूनिट फ्री का फैसला लिया, बीजेपी को सबसे ज्यादा करेंट लगा. बीजेपी वाले पूछ रहे हैं कि बिजली कहां से मिलेगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें