जीका से सावधान, ऐसे लक्षण दिखे तो जरूर लें डॉक्टर की सलाह

Indrajeet kumar, Last updated: Tue, 9th Nov 2021, 11:38 AM IST
  • यूपी में लगातार जीका वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. कानपुर कन्नौज समेत आसपास के इलाके में लगातार नए मरीज मिल रहे हैं. इसलिए अब राजधानी लखनऊ में भी संक्रमण का खतरे बढ़ गए है. बुखार आने पर लापरवाही ना करें और डॉक्टर की सलाह लें. जीका के और लक्षण जानने के लिए पढ़ें पूरी खबर.
प्रतीकात्मक फोटो

लखनऊ. यूपी में जीका वायरस तेजी से फैल रह है. कानपुर और कन्नौज में लगगतर जीका वायरस के मरीज मिल रहे हैं. ऐसे में अब राजधानी लखनऊ में भी जीका वायरस का खतरा बढ़ गया है. ऐसे में लोगों को ज्यादा सावधानी बरतने कि जरूरत है. बुखार आने पर लापरवाही ना करें. डॉक्टर की सलाह लेकर बुखार पीड़ित की जांच और इलाज कराएं. डेंगू और जीका वायरस से पीड़ित मरीजों के लक्षण एक समान ही है. इसलिए लक्षणों के आधार पर बीमारी सटीक अंदाजा लगाना मुश्किल है. लगभग 80 से 85 मामलों में तो कोई खास लक्षण भी नजर नहीं आते हैं. इसलिए बुखार आने पर डॉक्टर की सलाह लेकर ही दवाई खाएं.

लोहिया संस्थान में मेडिसिन विभाग के अध्यक्ष और चिकित्सा अधीक्षक डॉ. विक्रम सिंह ने बताया कि जीका वायरस भी डेंगू की तरह मच्छर के काटने से फैलता है. इस बीमारी में मरीज में बुखार, शरीर पर चक्कते, कमजोरी समेत दूसरे लक्षण नजर आते हैं. इससे बचने के लिए समय पर इलाज जरूरी है. मच्छरों से बचें और मच्छरदानी लगाकर ही सोएं. तरल भोजन का सेवन अधिक से अधिक करें. बुखार आने पर आराम करना ज्यादा बेहतर है. हमेशा पूरी बांह के कपड़े पहने. 

पीजीआई में होगी जीका वायरस की टेस्ट

अब पीजीआई में भी जीका वायरस का टेस्ट किया जाएगा. पीजीआई में जांच किट उपलब्ध कराई जा रही है, जांच किट मिलते ही जांच शुरू हो जाएगी. प्रदेश में बढ़ रहे जीका वायरस मरीजों के चलते सरकार ने पीजीआई में जीका वायरस की टेस्ट करने के निर्देश दिए हैं. ईसीएमआर और एनबीआरआई से जल्द ही किट मुहैया होने की उम्मीदें हैं. अब तक जीका वायरस की जांच सिर्फ केजीएमयू में उपलब्ध थी. पीजीआई के माइक्रोबायोलॉजी की विभागाध्यक्ष डॉ. उज्ज्वला घोषाल का कहना है कि लैब जीका वायरस की जांच करने को तैयार हैं. किट उपलब्ध होते ही जांच शुरू कर दिए जाएंगे. जीका वायरस की जांच भी कोरोना की तरह आरटीपीसीआर मशीन से की जाती है.

कानपुर में जीका संक्रमितों की संख्या हुई 89, CM योगी ने दिए सर्विलांस और रैपिड सैंपल टेस्टिंग के आदेश

लक्षण

जीका वायरस से संक्रमित कुछ लोगों में कोई लक्षण नहीं पाए जाते हैं. संक्रमित मच्छर के काटने से 14 दिनों के भीतर लक्षण उभर के सामने आने लगते हैं. इसमें बुखार, मांसपेशियों या जोड़ों में दर्द जैसे लक्षण देखे जाते हैं. जीका वायरस के संक्रमण से दिमाग व तंत्रिका तंत्र जुड़ी परेशानी भी देखने को मिल सकती है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें