UP चुनाव से पहले ब्राह्मणों को लुभाने की कोशिश में BJP,'टास्क फोर्स' का किया गठन

Ruchi Sharma, Last updated: Mon, 27th Dec 2021, 2:18 PM IST
  • भाजपा ने भी ब्राह्मण वोटरों को साधने के लिए 'ब्राह्मण टास्क फोर्स' का गठन किया है. इसको लेकर बीजेपी ने दिल्ली में मीटिंग बुलाई. बैठक में यूपी से प्रमुख ब्राह्मण नेताओं की राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात हुई. इन नेताओं की एक कमिटी बनाई गई है, जो राज्य में ब्राह्मण समुदाय के लोगों को पार्टी से जोड़ने का काम करेंगे.
UP चुनाव से पहले ब्राह्मणों को लुभाने की कोशिश में BJP,'टास्क फोर्स' का किया गठन

लखनऊ. विधानसभा चुनाव 2022 की बढ़ती सरगर्मियों के बीच सभी पार्टियां पूरी तरह से चुनावी मोड में आ गई हैं. वोटरों को साधने के लिए सभी पार्टियों ने सियासी गुणा-भाग तेज कर दिया है. इसी कड़ी में भाजपा ने भी ब्राह्मण वोटरों को साधने के लिए 'ब्राह्मण टास्क फोर्स' का गठन किया है. बता दें कि योगी सरकार पर ब्राह्मणों की उपेक्षा के आरोप लगते रहे हैं. जिसके चलते सियासी गलियारों में चर्चाएं तेज हैं कि ब्राह्मण मतदाता इस बार बीजेपी से नाराज हैं और पार्टी को इसका खामियाजा चुनाव में भुगतना पड़ सकता है.

इसको लेकर बीजेपी ने दिल्ली में मीटिंग बुलाई. बैठक में यूपी से प्रमुख ब्राह्मण नेताओं की राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात हुई. इन नेताओं की एक कमिटी बनाई गई है, जो राज्य में ब्राह्मण समुदाय के लोगों को पार्टी से जोड़ने का काम करेंगे. इससे पहले रविवार को इन सभी नेताओं की भाजपा के प्रदेश प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान से मुलाकात हुई थी. माना जा रहा है कि इन बैठकों में ब्राह्मण समुदाय को लुभाने की पूरी कोशिश की जा रही है. ब्राह्मण समुदाय के 17 फीसदी वोट हैं जो कि चुनाव में एक अहम भूमिका निभा सकते हैं.

 

CM योगी ने मनाया साहिबजादा दिवस, UP बना पहला राज्य, सीएम आवास पर गूंजी गुरूवाणी

 

ये नेता रहे शामिल

जेपी नड्डा से मुलाकात करने पहुंचे नेताओं में पार्टी के सांसद शिव प्रताप शुक्ला, नोएडा से सांसद डॉ. महेश शर्मा, योगी सरकार में मंत्री ब्रजेश पाठक, श्रीकांत शर्मा, आनंद स्वरूप शुक्ला, सतीश द्विवेदी, सत्यदेव पचौरी, रमापति राम त्रिपाठी, लक्ष्मीकांत वाजपेयी, रीता बहुगुणा जोशी, जितिन प्रसाद, अनिल शर्मा जैसे नेता शामिल हैं.

इन मुद्दों पर होगी चर्चा

सूत्रों के मुताबिक भाजपा कार्यक्रम के तहत ब्राह्मण मतदाताओं को यह संदेश देना चाहती है कि पार्टी ने उनकी भलाई के लिए अथक प्रयास किए हैं. पार्टी से जुड़े सूत्रों का कहना है कि इस कमेटी के सभी सदस्य ब्राह्मण समुदाय के नेताओं से मिलेंगे और राम मंदिर, काशी विश्वनाथ कॉरिडोर और अन्य मुद्दों पर चर्चा करेंगे.

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के चुनावी माहौल में एक बार फिर से सभी राजनीतिक पार्टियां ब्राह्मणों को लुभाने में जुट गए है. प्रदेश में देखा जाए तो समाजवादी पार्टी से लेकर बहुजन समाज पार्टी ब्राह्मणों को लेकर कई सम्मेलन कर रही है, वहीं प्रियंका गांधी भी लगातार योगी सरकार पर ब्राह्मणों के उत्पीड़न को मुद्दा बनाती रही हैं. अब कमेटी बनाकर और कार्यक्रम पेश कर बीजेपी ब्राह्मण मतदाताओं को लुभाने की हर संभव कोशिश कर रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें