लखनऊ को दिल्ली जैसा घेरेंगे, UP चुनाव में किसानों का वोट BJP को नहीं : राकेश टिकैत

Smart News Team, Last updated: Mon, 26th Jul 2021, 7:20 PM IST
  • भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा हम लखनऊ को भी दिल्ली की तरह घेरेंगे.
  • किसान भाजपा को वोट नहीं देंगे क्योंकि उनकी लड़ाई पार्टी के खिलाफ है.
  • मुजफ्फरनगर में 5 सितंबर को होगा किसान पंचायत का आयोजन.
  • अब होगी मिशन यूपी-उत्तराखंड की शुरुआत, आन्दोलन होगा तेज.
लखनऊ को दिल्ली जैसा घेरेंगे, UP चुनाव में किसानों का वोट BJP को नहीं : राकेश टिकैत

लखनऊ. केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों का विरोध कर रहे भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने सोमवार को प्रेस कांफ्रेंस में चेतावनी देते हुए कहा कि अगर हमारी मांगें नहीं मानी गईं तो हम लखनऊ को भी दिल्ली की तरह ही घेरेंगे. अगर तीनों कृषि कानून वापिस नहीं लिए गए तो धीरे-धीरे यह आंदोलन पूरे देश में फैल जाएगा. साथ ही एक सवाल के जवाब में टिकैत ने कहा कि उनकी विधानसभा चुनाव लड़ने की कोई योजना नहीं है और किसान अपनी पसंद की पार्टी का समर्थन करने के लिए स्वतंत्र हैं लेकिन किसान भाजपा को वोट नहीं देंगे क्योंकि उनकी लड़ाई इस पार्टी के खिलाफ है.

बता दें कि सोमवार को हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में राकेश टिकैत और योगेंद्र यादव शामिल रहे. जिसके दौरान राकेश टिकैत ने कहा कि केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन अब तक काफी हद तक दिल्ली की सीमाओं तक ही सीमित रहा है. वे अब मिशन यूपी-उत्तराखंड की शुरुआत करके और लोगों को सरकार की जनविरोधी नीतियों के बारे में बताकर आंदोलन को तेज करेंगे. बता दें कि जल्द ही उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव वाले हैं. जिसके चलते किसानों के दोनों राज्यों को भी घेरे में लेने का फैसला लिया है.

UP चुनाव: BSP के बाद SP भी पंडित वोट के पीछे, बलिया से ब्राह्मण मीटिंग की शुरुआत

योगेंद्र यादव ने भी प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कहा कि सोमवार को आठ महीने पूरे हुए इस आंदोलन से किसानों में स्वाभिमान वापस आ गया है. हम यहां मिशन यूपी-उत्तराखंड के साथ अपने आंदोलन को तेज करने घोषणा करने के लिए हैं. यह आंदोलन को धीरे-धीरे पूरे देश में फैल जाएगा. उन्होंने कहा कि हम आंदोलन के दौरान राष्ट्रीय महत्व के मुद्दों को उजागर करने के अलावा स्थानीय मुद्दों को भी उठाएंगे. साथ ही किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि आंदोलन को तेज करने के लिए पश्चिमी यूपी के मुजफ्फरनगर में 5 सितंबर को एक किसान पंचायत का आयोजन किया जाएगा. सरकार जब तक तीनों कृषि कानूनों को वापस नहीं लेगी तब तक आंदोलन जारी रहेगा।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें