नहीं रहे यूपी के पूर्व CM कल्याण सिंह, ऐसा था राजनीतिक करियर

Smart News Team, Last updated: Sun, 22nd Aug 2021, 12:17 AM IST
  • कल्याण सिंह ने शनिवार रात का स्वर्गवास हो गया. जिनका इलाज पिछले कई दिनों से लखनऊ के पीजीआई में चल रहा था. कल्याण सिंह की मृत्युसेप्सिस और मल्टी ऑर्गन फेल्योर के चलते हुआ. आइए जानते हैं पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के फायरब्रांड नेता रहे कल्याण सिंह का कैसा रहा राजनीतिक सफर.
नहीं रहे यूपी के पूर्व CM कल्याण सिंह, BJP में ऐसा था राजनीतिक करियर

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह का शनिवार रात को 89 साल की उम्र में निधन हो गया. दो बार यूपी के मुख्यमंत्री और राजस्थान के राज्यपाल रह चुके कल्याण सिंह का राजनीतिक सफर न ज्यादा तेज और न ही ज्यादा धीमी रही. वह 35 साल की उम्र में ही विधायक बन गए थे. जिसके बाद उनकी ऐसी लहर चली की कोई उन्हें 1980 तक हरा ही नहीं पाया, लेकिन 1980 में जनता पार्टी की टूट के बाद उन्हें हार का मुह देखना पड़ा. 

जानकारी के अनुसार कल्याण सिंह राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से जनसंघ में शामिल हो गए थे. बाद में जनसंघ के जनता पार्टी में विलय हो गया. जिसके बाद जब यूपी में 1977 में पार्टी की सरकार बनी तो वह स्वास्थ्य मंत्री बनाए गए. साथ ही जब 1980 में बीजेपी का गठन हुआ तब उन्हें प्रदेश महामंत्री बना दिया गया. इसके साथ ही जब 1991 में बीजेपी की सरकार यूपी में बनी. जिसमें इनकी भूमिका को देखते हुए मुख्यमंत्री बन दिया गया. 

कल्याण सिंह के निधन पर UP में 3 दिन का शोक, 23 अगस्त को सार्वजनिक अवकाश

यूपी के मुख्यमंत्री रहने के दौरान ही अयोध्या बाबरी ढांचा विध्वंस हो गया. जिसका सारा दोष अपने ऊपर लेते हुए इन्होंने इस्तीफा दे दिया. फिर 1993 के विधानसभा चुनाव में भी कल्याण सिंह के नेतृत्व में बीजेपी बड़ी पार्टी उभरकर सामने आयी, लेकिन सपा-बसपा के गठबंधन की सरकार बनी. तब यूपी विधानसभा में कल्याण सिंह विपक्ष नेता चुने गए थे. 

इतना ही नहीं वह 2009 में भाजपा का दामन छोड़कर मुलायम सिंह यादव से नजदीकियां बढ़ा ली. फिर 2013 में वह भाजपा के झंडे तले आ गए. जिसके बाद उन्होंने 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा का जमकर प्रचार किया. जिसमें बीजेपी ने अकेले 80 सीट में से 71 सीटें जीती थी. चुनाव के बाद नरेंद्र मोदी पीएम बने तो उन्होंने कल्याण सिंह को बनाया. इसी दौरान उन्होंने 2015 में हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल का अतिरिक्त कार्यभार भी संभाला था. राज्यपाल के कार्यकाल पूरा होने के बाद उन्होंने दोबारा बीजेपी के साथ हो लिए. बता दें कि कल्याण सिंह पिछले कई दिनों से बीमार चल रहे थे. जिसके इलाज लखनऊ के पीजीआई में हो रहा था.

कल्याण सिंह का हुआ निधन, लखनऊ में ली अंतिम सांस, इन नेताओं ने जताया शोक

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें