VIP नेता मुकेश सहनी की यूपी चुनाव के बाद छिन सकती है कुर्सी, BJP जल्द लेगी फैसला

Ankul Kaushik, Last updated: Wed, 2nd Mar 2022, 10:59 AM IST
  • VIP सुप्रीमो मुकेश सहनी को यूपी विधानसभा चुनाव में इलेक्शन लड़ना भारी पड़ सकता है. क्योंकि माना जा रहा है बहुत जल्द ही इनकी मंत्री की कुर्सी भी छिन सकती है, बीजेपी जल्द ही इस मामले पर फैसला लेगी.
मुकेश सहनी, फोटो क्रेडिट (सहनी ट्विटर)

लखनऊ. विकासशील इंसान पार्टी के संस्थापक और बिहार सरकार के पशुपालन और मत्स्य विकास विभाग के मंत्री मुकेश सहनी ने यूपी विधानसभा चुनाव के लिए मंगलवार को कई जनसभाएं करके अपने पार्टी प्रत्याशियों के लिए वोट मांगे. इस दौरान उन्होंने बीजेपी पर जमकर हमला किया, इतना ही नहीं यहां पर उन्होंने लोगों से अपील की वह भाजपा को वोट नहीं दें. अब VIP सुप्रीमो मुकेश सहनी को इस रवैये को देख बीजेपी पार्टी जल्द ही बड़ा फैसला ले सकती है, माना जा रहा है कि यूपी चुनाव के बाद उनकी मंत्री पद की कुर्सी भी छिन सकती है. क्योंकि बिहार में वीआईपी एनडीए में ही है और वह बीजेपी और जदयू की सहयोगी पार्टी है. हालांकि उसने यूपी में बीजेपी के खिलाफ ही अपने उम्मीदवार चुनावी मैदान में उतारे हैं.

इतना ही नहीं VIP सुप्रीमो मुकेश सहनी ने कई समाचार पत्रों में विज्ञापन देकर बीजेपी को वोट नहीं डालने की अपील की है. इन समाचार पत्रों में छपे विज्ञापन में मुकेश सहनी ने कहा है, हम निषादों की ताकत दिखा देंगे और कमल को खिलने नहीं देंगे. वहीं इस पूरे मामले पर भाजपा नेता प्रेम रंजन पटेल ने कहा कि भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने साहनी की बातों पर ध्यान दिया है. इतना ही नहीं बीजेपी का केंद्रीय नेतृत्व करीब से देख रहा है और समय आने पर उचित जवाब दिया जाएगा. इसके साथ ही पटेल ने कहा कि उनके खिलाफ बोलने वाला कोई भी सहयोगी लंबे समय तक बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है.

UP Polls 2022: बीजेपी के सहयोगी मुकेश सहनी बोले- यूपी में योगी को हराना उनका लक्ष्य

इसके साथ ही बीजेपी नेता ने कहा कि मुकेश सहनी ने अपने पार्टी के तीन एमएलए का भरोसा खो दिया है. इसलिए बीजेपी नेतृत्व पर दबाव डालने के लिए तथ्यहीन बयान दे रहे हैं. वहीं बीजेपी प्रदेश उपाध्यक्ष राजीव रंजन ने इस मामले को लेकर कहा है कि मुकेश सहनी जितना डीज़र्वे करते हैं, उससे ज्यादा उन्हें मिल गया है और VIP नेता इसे पचा नहीं पा रहे हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें