वरुण गांधी की पीएम मोदी को चिट्ठी, कहा- लखीमपुर खीरी की घटना लोकतंत्र पर धब्बा

Smart News Team, Last updated: Sat, 20th Nov 2021, 7:35 PM IST
  • भाजपा सांसद वरुण गांधी ने खत लिखकर पीएम मोदी के कृषि कानूनों की वापसी के ऐलान का स्वागत किया है, उन्होंने लखीमपुर खीरी की घटना लोकतंत्र पर धब्बा बताया. उन्होंने कहा- कानूनों को वापस लेने का फैसला उचित समय पर कर लिया जाता तो अच्छा होता.
वरुण गांधी ने पीएम मोदी को चिट्ठी लिख कर कहा लखीमपुर खीरी की घटना लोकतंत्र पर धब्बा

लखनऊ. प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी के तीनों कृषि कानूनों को रद्द किए जाने की घोषणा से किसानों व अन्य संगठनों में खुशी है. पूरे देश में पीएम मोदी की घोषणा का स्वागत हो रहा है. इस बीच भाजपा सांसद वरुण गांधी ने खत लिखकर पीएम मोदी के कृषि कानूनों की वापसी के ऐलान का स्वागत किया है, तो वहीं दूसरी ओर पीएम मोदी को सलाह भी दे दी.

लखीमपुर खीरी घटना को बताया लोकतंत्र पर धब्बा

उन्होंने पत्र में लिखा कि 'तीन कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा का मैं स्वागत करता हूं. मेरा विनम्र निवेदन है कि एमएसपी पर कानून बनाने की मांग व अन्य मुद्दों पर भी अब तत्काल निर्णय होना चाहिए, जिससे किसान भाई आंदोलन समाप्त कर सम्मान घर लौट जाएं. इस चिट्ठी में उन्होंने ये भी लिखा कि लखीमपुर खीरी की घटना लोकतंत्र पर धब्बा है. इस मामले से जुड़े मंत्री के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए. साथ ही सरकार को राष्ट्र हित में न्यूनतम समर्थन मूल्य की वैधानिक गारंटी देने की किसानों की मांग को स्वीकार करना चाहिए.'

C2+50% फार्मूले MSP देने का किया अनुरोध

इसके साथ ही वरुण गांधी ने पीएम मोदी को चिट्ठी लिखकर C2+50% फार्मूले के तहत किसानों को तुरंत MSP देने का अनुरोध किया है. उन्होंने आगे लिखा कि यदि कृषि कानूनों को वापस लेने का फैसला उचित समय पर कर लिया जाता तो उन 700 किसानों की जान बचाई जा सकती थी जिन्होंने इस आंदोलन की राह में अपने प्राण न्योछावर कर दिए.

CM योगी को धमकी देने वाले नौशाद को वेस्ट बंगाल से पकड़ लाई यूपी पुलिस, अब...

लगातार करते रहे किसानों के समर्थन में ट्वीट

बता दें कि वरुण गांधी किसानों के मुद्दे उठाते रहे हैं. वे लगातार किसानों के समर्थन में ट्वीट करते रहे. उन्होंने लखीमपुर खीरी घटना के पीड़ितों के लिए न्याय की मांग को उठाया. यही नहीं उन्होंने योगी सरकार को भी आड़े हाथों लिया था और कहा था कि ऐसी सरकार का क्या मतलब है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें