बीजेपी 18 सितंबर को लखनऊ में करेगी किसान सम्मेलन का आयोजन, सीएम योगी होंगे शामिल

Somya Sri, Last updated: Wed, 15th Sep 2021, 2:42 PM IST
  • 18 सितंबर को भारतीय जनता पार्टी किसान कल्याण सम्मेलन करेगी. ये लखनऊ में आयोजित की जाएगी. जिसमें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के शामिल होने की भी खबर है.
बीजेपी 18 सितंबर को लखनऊ में करेगी किसान सम्मेलन का आयोजन, सीएम योगी होंगे शामिल (प्रतीकात्मक फोटो)

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में अब ज्यादा वक्त नहीं बचा है. ऐसे में हर दल चुनाव को लेकर अभी से ही रणनीति तैयार कर रही है. भारतीय जनता पार्टी भी चुनाव से पहले हर वर्ग को रिझाने में जुटी हुई है. इसी कड़ी में 18 सितंबर को भारतीय जनता पार्टी किसान कल्याण सम्मेलन करेगी. ये लखनऊ में आयोजित की जाएगी. जिसमें उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के शामिल होने की भी खबर है.

भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष कामेश्वर सिंह ने मीडिया से मुखातिब होते हुए बताया कि 18 सितंबर को लखनऊ के आशियाना स्थित स्मृति उपवन में किसान कल्याण सम्मेलन होगा. इसमें सभी 403 विधानसभा क्षेत्र से पचास-पचास किसान प्रतिनिधि बुलाए जाएंगे. उन्होंने कहा कि किसान प्रतिनिधि सरकार की किसान हित की नीतियों के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का अभिनंदन करेंगे. कामेश्वर सिंह ने बताया कि 17 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 71 वर्ष के हो रहे हैं. उस दिन किसान मोर्चा सभी जिला मुख्यालयों पर 71 किसान-जवानों को सम्मानित करेगा. अक्टूबर और नवंबर में विधानसभा स्तर पर किसान सम्मेलन करने की रूपरेखा भी बनाई जा रही है.

इस बदलाव के बाद देश में मिल सकता है 75 रुपये में पेट्रोल और 68 रुपये में मिलेगा डीजल

गौरतलब है कि भाजपा किसान मोर्चा की 11 और 12 सितंबर को चित्रकूट में प्रदेश कार्य समिति की बैठक हुई थी. जिसमें यह तय किया गया था कि 18 सितंबर को राजधानी लखनऊ में किसान कल्याण सम्मेलन आयोजित किया जाएगा. इस दौरान किसान मोर्चा के क्षेत्रीय महामंत्री सतेन्द्र भराला ने मीडिया को बताया था कि इस सम्मेलन में वही किसान भाग लेंगे, जो जैविक खेती के माध्यम से किसानों का कल्याण कर रहे हैं. उन्होंने बताया था कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश के सभी पदाधिकारी 17 सितंबर की शाम को किसान कल्याण सम्मेलन के लिए प्रस्थान करेंगे. 18 सितंबर को किसान कल्याण सम्मेलन में भाग लेंगे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें