योगी सरकार का किसानों को लेकर बड़ा फैसला, खेती की नीलामी में देगी बड़ी राहत

Smart News Team, Last updated: 07/03/2021 12:05 AM IST
  • किसानों को राहत देते हुए योगी सरकार बड़ा फैसला लिया है. कुर्की से पहले किसानों के कृषि उपकरण का ब्योरा ऑनलाइन किया जाएगा, जिससे कुर्की से पहले किसनों के उपकरणों के खरीददारों की संख्या बढ़ सके और उसे वर्तमान बाजार मूल्य पर बेचा जा सके
योगी आदित्यनाथ (फाइल फ़ोटो) 

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में अब किसनों द्वारा कर्ज न चुका पाने की स्थिती में उनके कृषि उपकरणों की कुर्की के बाद नीलामी औने पौने दामों पर नहीं होगी. इसके लिए योगी सरकार बड़ा फैसला लिया है. कुर्की से पहले किसानों के कृषि उपकरण का ब्योरा ऑनलाइन किया जाएगा, जिससे कुर्की से पहले किसनों के उपकरणों के खरीददारों की संख्या बढ़ सके और उसे वर्तमान बाजार मूल्य पर बेचा जा सके. जिससे किसनों को राहत मिले. इसके लिए राजस्व संहिता नियमावली में संशोधन किया जाएगा. सरकार और उच्चाधिकारियों की बैठक में इस पर सहमति बन गई है.

मनमाने तरीके से नहीं होगी नीलामी

किसान अपनी कृषि जरूरतों को पूरा करने के लिए किसान क्रेडिट कार्ड या कृषि लोन लेते हैं. जिससे वो खेती करते हैं या कृषि उपकरण खरीदते हैं. विषम परिस्थितियों में कभी-कभार किसान कर्ज नहीं उतार पाते हैं. ऐसी स्थिती में कर्ज की वसूली के लिए पहले नोटिस देने के साथ वसूली के लिए आरसी जारी किया जाता है. 

LDA पहुंची मुख्तार अंसारी के रानी सल्तनत बिल्डिंग, कॉप्लेक्स को गिराने का काम शुरू

कर्ज नहीं चूका पाने की स्थिति में किसानों की चल और अचल संपत्तियों की नीलामी कर वसूली की जाती है. कृषि उपकरणों या कृषि भूमी या संपत्ति के मूल्यांकन के लिए एक कमेटी बनाई जाती है जिसके तय मूल्य के आधार पर उसके सामानों की नीलामी होती है. इसमें आए दिन गड़बड़ी के आरोप लगाते हैं. और किसान अपने संपत्ति का औने पौने दाम लगाने का आरोप लगाता है.

CM योगी आदित्यनाथ ने UPPTCL के लिए 1,920 करोड़ रुपए की लागत के 27 उपकेंद्रों का किया लोकार्पण

आनलाइन प्रक्रिया से बंद होगा कालाबाजारी

निलामी प्रक्रिया ऑनलाईन नही होने की स्थिति में कम बोलीदाता आते हैं. कई मामलों में इसके पीछे कथित रुप से तहसील कर्मियों की मिलीभगत भी होती है. सरकार का मानना है की इस व्यवस्था के लागू होने के बाद किसनों के सामानों की नीलामी औने-पौने दाम पर नहीं होगी और नीलामी प्रक्रिया में प्रतिस्पर्धा आयेगी और किसानों को अपने समान का अच्छा मूल्य मिलेगा.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें