CM योगी की गन्ना मूल्य बढ़ोत्तरी पर BKU नेता राकेश टिकैत बोले- किसानों के साथ मजाक

Ankul Kaushik, Last updated: Mon, 27th Sep 2021, 8:48 AM IST
  • भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) नेता राकेश टिकैत ने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ द्वारा गन्ना मूल्य में की गई बढ़ोत्तरी को किसान के साथ मजाक बताया है. राकेश टिकैत ने कहा है कि किसान इस मजाक को भूलेगा नहीं.
भारतीय किसान यूनियन नेता राकेश टिकैत (फाइल फोटो)

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा गन्ना कीमत में की गई बढ़ोत्तरी को भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) नेता राकेश टिकैत ने किसान के साथ मजाक बताया है. सीएम योगी द्वारा लिए गए इस फैसले पर राकेश टिकैत ने ट्वीट कर लिखा- उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा गन्ना मूल्य में की गई 25 रुपये कुंतल की घोषणा नाकाफी ही नहीं, किसानों के साथ मजाक है. तीन सरकारों के कार्यकाल की यह सबसे कम वृद्धि है. किसान इस मजाक को भूलेगा नहीं. इसके साथ ही भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी धर्मेंद्र मलिक ने सीएम योगी के इस फैसले पर कहा वह थर्ड डीवीजन पास हुए हैं.

बीकेयू के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी धर्मेंद्र मलिक ने ट्वीट करके लिखा- उत्तर प्रदेश सरकार ने गन्ने का एसएपी 25 रुपए बढ़ाकर 350 रुपये किया, पांच साल में केवल 35 रुपये की वृद्धि, पिछली दोनों सरकारों से कम है. योगी जी गन्ना किसानों की परीक्षा में 3rd डिविजन से पास हुए है. बता दें कि सीएम योगी ने किसानों की काफी लंबे समय से चल रही मांग को देखते हुए लखनऊ के सम्मेलन में कहा था कि गन्ना की कीमत में 25 रुपये प्रति क्विंटल की बढ़ोत्तरी कई गई है. अब गन्ना किसानों को 325 की जगह 350 रुपये प्रति कुंतल के हिसाब से भुगतान किया जाएगा. सामान्य गन्ने के लिए 315 के बजाय 340 रुपये का भुगतान किया जाएगा.

BJP मिशन किसान: CM योगी का गन्ना समर्थन मूल्य में बढ़ोतरी का ऐलान, 25 रुपये प्रति कुंतल बढ़े दाम

बीजेपी ने साल 2017 में गन्ना किसानों के लिए जो संकल्प लिया वो पूरा किया है. वहीं सीएम योगी ने इस सम्मेलन में कहा था कि गन्ना मूल्य में बढ़ोत्तरी से गन्ना किसानों की आय में आठ फीसदी की बढ़ोत्तरी होगी. इससे प्रदेश के 45 लाख किसानों की आय में बढ़ोत्तरी हो. वहीं सीएम योगी ने विपक्ष पर हमला बोलते हुए कहा 2017 में 8 वर्षों से गन्ने का भुगतान बकाया था. पिछली सरकारों में गन्ने का भुगतान नहीं हुआ था, जिससे किसान परेशान था। चीनी मिलें बंद हो रही थीं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें