कांशीराम पुण्यतिथि: मायावती का इशारा- विपक्षी पार्टियों से चंदा लेती है भीम आर्मी

Smart News Team, Last updated: 09/10/2020 05:52 PM IST
बसपा संस्थापक कांशीराम की पुण्यतिथि पर बसपा सुप्रीमो मायावती ने बिना नाम लिए इशारों-इशारों में भीम आर्मी पर हमला बोलते हुए कहा कि ऐसे संगठन विरोधी पार्टियों से चंदा लेती हैं. उन्होंने कांग्रेस और बीजेपी पर भी जमकर हमला बोला.
बसपा संस्थापक कांशीराम की पुण्यतिथि पर मायावती ने भीम आर्मी, कांग्रेस और बीेजेपी पर हमला बोला.

लखनऊ. बसपा सुप्रीमो मायावती ने बिना नाम लिए इशारों-इशारों में भीम आर्मी पर हमला बोलते हुए कहा कि बीएसपी के मूवमेंट को कमजोर करने की कोशिश की जा रही है. इसके लिए विरोधी पार्टियां पैसा बहा रही हैं. मायावती ने ये बात बसपा के संस्थापक कांशीराम की पुण्यतिथि पर कही. मायावती ने भाजपा और कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि बीजेपी-कांग्रेस अंदर से एक ही हैं.

शुक्रवार को बहुजन समाजवादी पार्टी के संस्थापक कांशीराम की पुण्यतिथि पर उन्होंने कांशीराम को नमन करते हुए श्रद्धांजलि दी. मायावती इस मौके पर शुक्रवार को मीडिया से मुखातिब हुईं. उन्होंने कहा कि गठबंधन सिर्फ राजनीतिक स्वार्थ के लिए होते हैं. इस उपचुनाव में बीएसपी को फायदा होगा.

लखनऊ सचिवालय में फर्जी पास रैकेट का भांडाफोड़, फेक आईडी समेत 1 गिरफ्तार

बसपा सुप्रीमो मायावती प्रेस काॅन्फ्रेस में बिना नाम लिए भीम आर्मी पर हमला बोला. उन्होंने कहा कि बीसपी के मूवमेंट को कमजोर करने की कोशिश की जा रही है. मायावती ने कहा कि ऐसे संगठन, पार्टियों के पास पैसा कहां से आता है. इसके लिए लिए वे विरोधी पार्टियों से चंदा लेते हैं. ऐसे लोगों से सजग और सतर्क रहें. कांशीराम की पुण्यतिथि पर मायावती ने कहा कि कांशीराम चाहते थे कि दलित सत्ता तक पहुंचे. उन्होंने कांग्रेस-बीजेपी पर कहा कि ये पार्टियां दलितों और पिछड़ों को बहका रही हैं.

लखनऊ: तालकटोरा में घारधार हथियार से 90 वर्षीय बुजुर्ग की हत्या

प्रेस काॅन्फ्रेंस में मायावती ने कहा कि बीजेपी-कांग्रेस के लोग अंदर से एक ही हैं. संकीर्ण मानसिकता वाली ऐसी पार्टियों से सचेत रहे. उन्होंने कहा कि बीएसपी को बदनाम करने की साजिश की जा रही है. जिससे बीसपी को सत्ता तक पहुंचने से रोका जा सके. मायावती ने कहा कि बीएसपी को आर्थिक रूप से कमजोर किया जा रहा है लेकिन बीएसपी किसी की पिछलग्गू नहीं है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें