कैबिनेट विस्तार और फेरबदल केंद्र की गलत नीतियों पर पर्दा नहीं डाल सकते : मायावती

Smart News Team, Last updated: Thu, 8th Jul 2021, 5:31 PM IST
  • बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने केंद्रीय मंत्रिमंडल के विस्तार पर ट्वीट किया. ट्वीट में उन्होंने कहा कि मंत्रिमंडल में लंबे-चौड़े विस्तार और फेरबदल सरकार की अब तक की गलत नीतियों, कमियों और कार्यकलापों पर पर्दा नहीं डाल सकते हैं.
बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने केंद्रीय मंत्रिमंडल के विस्तार पर निशाना साधा है.

लखनऊ. बहुजन समाज पार्टी प्रमुख और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने केंद्रीय मंत्रिमंडल में बुधवार शाम किये गये फेरबदल को लेकर ट्वीट किया है. ट्वीट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए मायावती ने कहा कि केंद्रीय मंत्रिमंडल में लंबे-चौड़े विस्तार और फेरबदल सरकार की अब तक की गलत नीतियों, कमियों और कार्यकलापों पर पर्दा नहीं डाल सकते हैं. साथ ही उन्होंने कहा कि मंत्रिमंडल के विस्तार और फेरबदल सरकार की गलत नीतियों पर से लोगों के ध्यान नहीं बांट सकते हैं.

केंद्र की मोदी सरकार को आड़े हाथों लेते हुए मायावती ने कहा कि जनता और देश की बदहाल स्थिति सही समय पर परिवर्तन की राह देख रही है. इसके साथ ही मायावती ने उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पर भी तंज कसा. मायावती ने अपने दूसरे ट्वीट में कहा कि यूपी की भाजपा सरकार भी यहां( यूपी) जनहित और जनकल्याण के सभी मोर्चों पर अधिकांश विफल ही रही है. कोरोना महामारी के दौरान योगी सरकार की नीतियों को लेकर मायावती ने कहा कि इनकी नीति, कार्यशैली, हवा-हवाई वादों और घोषणाओं से प्रदेश की समस्त जनता काफी दु:खी है.

अखिलेश यादव बोले- जिला पंचायत चुनावों में भाजपा ने लोकतंत्र का खुलकर मजाक बनाया

दरअसल, केंद्र सरकार ने बुधवार शाम कैबिनेट विस्तार के तहत 43 नेताओं को मंत्री पद की शपथ दिलाई है. केंद्रीय मंत्रिमंडल में 36 नए नेताओं को जोड़ा गया है. जोड़े गए कुल 43 नेताओं में से 7 उत्तर प्रदेश के नेताओं को भी केंद्रीय मंत्रिमंडल में जगह दी गई है.वहीं इसके साथ ही मंत्रिमंडल में जातीय समीकरण का भी पूरा ध्यान रखा गया है. नए मंत्रिमंडल में 12 मंत्री दलित समुदाय से होंगें, जबकि 8 मंत्री एसटी समुदाय के होंगे. इसके साथ ही 27 मंत्री ओबीसी समुदाय से चयनित किये गये हैं. मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर राजनीतिक विशेषज्ञों का कहना है कि अगले साल उत्तर प्रदेश सहित कई राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं. ऐसे में कैबिनेट विस्तार में चुनावी राज्यों पर फोकस किया जा रहा है और साथ ही मिशन 2024 के लिए टीम तैयार की जा रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें