यूपी चुनाव से पहले BSP के बागी लालजी वर्मा और राम अचल राजभर ने की अखिलेश से मुलाकात

MRITYUNJAY CHAUDHARY, Last updated: Fri, 24th Sep 2021, 8:12 PM IST
  • मायावती पार्टी BSP के दो बड़े नेता लालजी वर्मा व राम अचल राजभर SP अध्यक्ष अखिलेश यादव से मिले. अखिलेश यादव ने इसे शिष्टाचार मुलाकात बताया है.
अखिलेश यादव से BSP नेता लालजी वर्मा व राम अचल राजभर ने मिलकर समाजवादी पार्टी सपा में शामिल हुए

लखनऊ. बहुजन समाज पार्टी को उत्तर प्रदेश चुनाव से पहले तगड़ा झटका लग सकता है. बसपा के दो बड़े नेताओं ने शुक्रवार को समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव से मुलाकात की है. BSP के बागी नेता राम अचल राजभर और लाल जी वर्मा ने अखिलेश से शिष्टाचार मुलाकात की थी. मुलाकात के बाद दोनों ने कहा जब चुनाव लड़ने को लेकर फैसला हो जाएगा तब सपा ज्वाइन कर सकते हैं.

बसपा के दोनों नेता राम अचल राजभर और लाल जी वर्मा आज अखिलेश यादव से मिले. जानकारी के अनुसार बसपा सुप्रीमों मायावती ने इन दोनों नेताओं को पहले ही बीएसपी से बाहर कर चुकी हैं. इसके बाद कयास लगाए जा रहे हैं कि दोनों यूपी चुनाव से पहले अखिलेश यादव की साइकिल पर सवार हो सकते हैं. फिलहाल दोनों ने समाजवादी पार्टी ज्वाइन नहीं की है.

केंद्र के जाति जनगणना करवाने से इनकार पर भड़कीं मायावती, कहा- BJP का चुनावी स्वार्थ...

बता दें कि राम अचल राजभर अकबरपुर से पांच बार विधायक रह चुके है. इसके साथ ही बसपा के प्रदेश अध्यक्ष और राष्ट्रिय महासचिव भी रह चुके हैं. पूर्व राष्ट्रीय महासचिव लालजी वर्मा अम्बेडकरनगर जिले के कटेहरी विधानसभा से  विधायक हैं. इसके अलावा ये दोनों नेता बसपा में प्रत्येक शासन में मंत्री रहे हैं. साथ ही इन्होने बसपा में अहम जिम्मेदारी निभाई है. वहीं राम अचल राजभर को संगठन के शिल्पकार के रूप में जाना जाता है. 

बता दें कि समाजवादी पार्टी में पहले कई बसपा के बड़े नेता शामिल हो चुके हैं. सपा में शामिल हुए अधिकांश नेताओं को बसपा ने बागी करार दे दिया था. साथ ही उन्हें पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया था. पूर्व प्रत्याशी इंजिनियर नूर मोहम्मद, पूर्व सांसद यशवीर सिंह और पूर्व विधायक शेख सुलेमान सपा में शामिल हो चुके है. बसपा नेता हरिशंकर राजभर और राजेंद्र उर्फ मुन्ना यादव भी सपा में शामिल हो चुके हैं. इसी कारण से राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि लाल जी वर्मा और राम अचल राजभर भी जल्द सपा का हिस्सा बन सकते हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें