मायावती के OSD रहे गंगाराम अंबेडकर ने की सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से मुलाकात

Ankul Kaushik, Last updated: Thu, 23rd Sep 2021, 11:36 AM IST
  • बसपा सुप्रीमो मायावती के ओएसडी रहे गंगाराम अंबेडकर ने समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष व उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मुलाकात की है. सपा अध्यक्ष से मुलाकात करने वाले गंगाराम अंबेडकर मिशन सुरक्षा परिषद भी चलाते हैं.
सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से मिले गंगाराम अंबेडकर

लखनऊ. समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष व उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से बसपा सुप्रीमो मायावती के ओएसडी रहे गंगाराम अंबेडकर ने मुलाकात की है. गंगाराम अंबेडकर ने अखिलेश यादव से मुलाकात करके उन्हें भगवान बुद्ध की एक प्रतिमा भी भेंट की. गंगाराम अंबेडकर के साथ 5 सदस्यीय दल भी सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से मुलाकात करने के लिए पहुंचे थे. सपा अध्यक्ष से मुलाकात करने वाले गंगाराम अंबेडकर मिशन सुरक्षा परिषद भी चलाते हैं. बता दें कि गागंराम दलितों को जोड़ने का अभियान चलाते हैं और वह दलितों के लिए एक बड़ा चेहरा भी हैं. सपा अध्यक्ष से गंगाराम की मुलाकात बसपा सुप्रीमो मायावती के लिए काफी परेशानी खड़ी कर सकती है. क्योंकि जहां बसपा को दलितों पर भरोसा है और वही दलित अगर बंट जाएंगे तो मायावती की पार्टी बिखर जाएगी. बसपा के राष्‍ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा के नेतृत्व में पार्टी में ब्राह्मणों को जोड़ने के लिए प्रबुद्ध सम्मेलन का आयोजन भी किया गया था.

जहां बसपा उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 के लिए पार्टी को मजबूत बनाने में जुटी हुई वहीं बसपा के नेता सपा में शामिल हो रहे हैं. बसपा के कई नेता सपा में शामिल हो रहे हैं और बसपा पार्टी आए दिन टूटती हुई नजर आ रही है. वहीं अखिलेश यादव की सपा में कई पार्टियों के नेता शामिल हो रहे हैं और पार्टी यूपी विधानसभा 2022 के लिए काफी मजबूत होती दिख रही है. हाल ही में मुख्तार अंसारी के भाई सिबाकतुल्लाह अंसारी व पूर्व मंत्री अंबिका चौधरी भी सपा में शामिल हुए थे. इसके साथ ही कांग्रेस के कई नेता भी सपा में शामिल हुए हैं.

अखिलेश ने सीएम योगी पर साधा निशाना, कहा- गंगा मइय्या, गड्ढा, गइय्या, इनको भी छल गये ठगइय्या

समजावादी पार्टी के कार्यकर्ता किसान-नौजवान-पटेल यात्रा निकाल रहे हैं. वहीं बसपा ने साफ संदेश दे दिया है कि वह प्रदेश में किसी भी राजनीतिक दल के साथ गठबंधन नहीं करेंगे. इसके साथ ही संतीश चंद्र मिश्रा ने कहा है कि प्रदेश में बीजेपी उनकी नंबर वन दुश्मन हैं इसलिए बीजेपी को समर्थन नहीं दिया जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें