BSP सुप्रीमो मायावती का योगी सरकार पर हमला, UP में इस दिन फ्री राशन मिलना होगा बंद

Ankul Kaushik, Last updated: Tue, 9th Nov 2021, 5:16 PM IST
  • बहुजन समाजवादी पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि उत्तर प्रदेश में योगी सरकार में गरीबों को मिलने वाला फ्री राशन चुनाव बाद बंद हो जाएगा. इसके साथ ही यूपी की पूर्व सीएम मायावती ने प्रदेश की सत्ताधारी पार्टी बीजेपी और समाजवादी पार्टी (सपा) पर भी जमकर निशाना साधा.
बसपा सुप्रीमो मायावती (फाइल फोटो)

लखनऊ. बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती ने मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि उत्तर प्रदेश में गरीबों को मिलने वाला फ्री राशन चुनाव बाद बंद हो जाएगा. इसके साथ ही बसपा सुप्रीमो व यूपी की पूर्व सीएम मायावती ने कहा कि आगामी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों के लिए बसपा किसी भी राजनीतिक दल के साथ गठबंधन नहीं करेगी. मयावती ने कहा कि बसपा का किसी भी पार्टी के साथ कोई चुनावी समझौता नहीं होगा. हम अपने दम पर चुनाव लड़ेंगे. इसके साथ ही मायावती ने विश्वास जताया कि उनकी पार्टी 2007 की तरह एक आशाजनक जनादेश के साथ सत्ता में वापस आएगी. वहीं मायावती ने प्रदेश की सत्ताधारी पार्टी बीजेपी और समाजवादी पार्टी पर भी जमकर हमला बोला.

मायवती ने कहा कि हमें समाजवादी पार्टी और भारतीय जनता पार्टी में कोई अंतर नहीं दिखता. वे एक ही सिक्के के दो पहलू हैं. वे सिर्फ चुनाव को हिंदू-मुस्लिम का मामला बनाना चाहते हैं. हमें विश्वास है कि हमें पूर्ण बहुमत मिलेगा, जैसा कि हमें 2007 में मिला था. यूपी की जनता न तो कांग्रेस और न ही सपा के चुनावी वादों के झांसे में आएगी. मायवती ने कहा- BSP बातें कम काम ज्यादा में विश्वास करती है. BJP को जनता के दुख दर्द की परवाह नहीं है और जनता इन दलों से पूरी तरह सजग है.

किसान आंदोलन: मायावती बोलीं- कानून वापस लेकर किसानों को गिफ्ट दे मोदी सरकार

बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि यूपी सरकार अधूरे कार्यों का लोकार्पण कर रही है. सपा-कांग्रेस पार्टी तरह तरह के प्रलोभन दे रही हैं और इनके उपर जनता विश्वास करने वाली नहीं है. जनता इनके वादों को गंभीरता से नहीं ले रही है. राज्य के लोग सपा की तरह कांग्रेस पार्टी द्वारा किए गए कई चुनावी वादों पर आसानी से विश्वास नहीं करने वाले हैं. अगर कांग्रेस ने अपने चुनावी वादों का 50 प्रतिशत भी पूरा किया होता, तो वे केंद्र, यूपी और देश के अधिकांश राज्यों में सत्ता से बाहर नहीं होते.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें