मायावती बोलीं- लव जिहाद पर कानून पहले से ही प्रभावी हैं, सरकार करे पुनर्विचार

Smart News Team, Last updated: 30/11/2020 11:53 AM IST
  • योगी सरकार के कैबिनेट द्वारा पारित लव जिहाद के खिलाफ अध्यादेश पर बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि इस सम्बंध में कई कानून पहले से ही प्रभावी हैं. उन्होंने यूपी सरकार से इस अध्यादेश पर पुनर्विचार करने की मांग की हैं.
BSP चीफ मायावती ने योगी सरकार से लव जिहाद के खिलाफ पारित अध्यादेश पर पुनर्विचार करने की मांग की हैं.

लखनऊ. योगी सरकार के कैबिनेट द्वारा यूपी में लाए गए लव जिहाद के खिलाफ अध्यादेश पर बसपा सुप्रीमो मायावती ने सीएम योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधा है. मायावती ने सोमवार को इस अध्यादेश को लेकर कहा कि इस सम्बंध में कई कानून पहले से ही प्रभावी हैं. बसपा सुप्रीमो मायावती ने योगी सरकार से इस पर पुनर्विचार करने की मांग की हैं.

सोमवार सुबह मायवाती ने ट्वीट कर कहा कि लव जिहाद को लेकर यूपी सरकार द्वारा आपाधापी में लाया गया धर्म परिवर्तन अध्यादेश अनेकों आशंकाओं से भरा जबकि देश में कहीं भी जबरन व छल से धर्मान्तरण को न तो खास मान्यता व न ही स्वीकार्यता. इस सम्बंध में कई कानून पहले से ही प्रभावी हैं. सरकार इस पर पुनर्विचार करे, बीएसपी की यह मांग.

लव जिहाद का पहला केस दर्ज, धर्म परिवर्तन का दबाव बनाया, जान से मारने की धमकी भी दी

बता दें कि यूपी में लव जिहाद पर रोक लगाने के लिए योगी सरकार द्वारा लाए गए अध्यादेश ‘उत्तर प्रदेश विधि विरुद्ध धर्म संपरिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश, 2020’ 28 नवंबर से लागू हो गया है. रविवार को यूपी के बरेली जिले में लव जिहाद का पहला मामला सामने आया है. 

योगी सरकार का लव जिहाद पर अध्यादेश आज से यूपी में लागू, राज्यपाल ने दी मंजूरी

इस अध्यादेश के मुताबिक अगर कोई जबरन, मिथ्या, बलपूर्वक, प्रलोभन और उत्पीड़ित कर धर्मपरिवर्तन कराता है तो यह अपराध गैरजमानती होगा. ऐसे स्थिति में प्रथम श्रेणी के मजिस्ट्रेट के न्यायालय में सुनवाई की जाएगी. सिर्फ शादी के लिए अगर लड़की का धर्म बदला गया तो न केवल ऐसी शादी अमान्य घोषित कर दी जाएगी, बल्कि धर्म परिवर्तन कराने वालों को दस साल तक जेल की सजा भी भुगतनी पड़ सकती है. 

UP: योगी का गैरकानूनी धर्म परिवर्तन अध्यादेश,बेगुनाही का सबूत आरोपी को देना होगा

अध्यादेश के अनुसार आरोपी को बेगुनाही का सबूत देना होगा कि उसने अवैध या जबरन तरीके से धर्म परिवर्तन नहीं कराया है, धर्म परिवर्तन लड़की को उत्पीड़न करके नहीं किया गया, इसे साबित करने का जिम्मा आरोपी व्यक्ति पर ही होगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें