यूपी की खराब सड़कों को लेकर BSP सुप्रीमो मायावती ने साधा सरकार पर निशाना, कहा- ध्यान दें

Deepakshi Sharma, Last updated: Wed, 15th Sep 2021, 10:48 AM IST
  • यूपी में सड़कों का बुरा हाल होता देख खुद बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती चिंता जताती हुई नजर आई. उन्होंने अपने ट्वीट के जरिए इस परेशानी की ओर सभी का ध्यान केंद्रित किया. साथ ही सरकार से भी ये कहा कि वो इन सब बातों पर जरूर ध्यान दें.
यूपी की खराब सड़कों को लेकर बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने जताई चिंता

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की सड़कों का किसी तरह से बुरा हाल है खुद इस बात का जिक्र करती हुईं बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती नजर आई. उन्होंने कानून और स्वास्थ्य व्यवस्था का सहारा लेते हुए यूपी की सड़कों की दुर्दशा और खस्ताहाली के बारे में सोशल मीडिया पर अपनी बात रखी. साथ ही उन्होंने सरकार को इस बात पर भी ध्यान देने के लिए कहा कि सड़कों की हालत खराब है ऐसे में सरकार को इस पर ध्यान देना चाहिए.

ट्विटर पर ट्वीट करते हुए बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने पहले अपनी बात में कहा,' यूपी में कानून व स्वास्थ्य व्यवस्था की तरह ही यहाँ के सड़कों की भी दुर्दशा व ख़स्ताहाली से आमजनजीवन काफी बेहाल है तथा गड्डों में पानी भर जाने से सड़क हादसों व इसमें होने वाली दर्दनाक मौतों की ख़बरों से अख़बार भरे पड़े हैं, यह अति-दुःखद व सरकार की विफलता का जीता-जागता प्रमाण.'

लखनऊ में युवती को व्हाट्सएप्प पर मैसेज भेजने वाले सिपाही पर गिरी गाज, लाइन हाजिर

दूसरी बार ट्वीट करते हुए यूपी की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने लिखा,' सड़कें लोगों की बुनियादी ज़रूरत व विकास से विशेषतः जुड़ी हुई हैं तथा इनके बारे में भी सरकार चाहे जितने भी नारे व दावे कर ले लेकिन यूपी के सड़कों की हालत फिर से इतनी ज्यादा खराब हो गई हैं कि लोग समझ नहीं पा रहे हैं कि सड़कों में गड्डा है या गड्डे में सड़क। सरकार ध्यान दें.'

CDRI की बनाई कोरोना की दवा का तीसरा ट्रायल पूरा, 5 दिन में ही दिख रहे प्रभावी असर

वहीं, सामने आई जानकारी के मुताबिक उत्तर प्रदेश सरकार ने यूपी की सड़कों को साफ और गड्ढा मुक्त करने के लिए 15 सितंबर से एक अभियान चलाने का ऐलान किया है. इसके लिए सीएम योगी ने तीन महीने का वक्त दिया है. इस काम को 15 नवबंर तक हर हाल में पूरा किया जाएगा. लापरवाही होने पर संबंधित जुड़े लोगों के खिलाफ कार्रवाई होगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें