मायावती की मांग, सुप्रीम कोर्ट करवाए अपनी निगरानी में पेगासस जासूसी कांड की जांच

Smart News Team, Last updated: Thu, 29th Jul 2021, 12:14 PM IST
  • बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने गुरुवार के दिन अपने ट्विटर हैंडल से दो ट्वीट करते हुए. देश की सुप्रीम कोर्ट से मांग किया कि सुप्रीम कोर्ट अपने निगरानी में पेगासस जासूसी कांड की जांच कराएं. जिससे देश की जनता के सामने इस पूरे जासूसी कांड का असल सच्चाई पता चल सके.
बीएसपी प्रमुख मायावती. फाइल फोटो

लखनऊ : भारत की राजनीति में पेगासस जासूसी कांड ने देश के विपक्ष को मोदी सरकार को घेरने का एक और मौका दे दिया है. तमाम विपक्षी नेता राहुल गांधी, अखिलेश यादव समते कई नेताओं ने केंद्र की सरकार से पेगासस जासूसी कांड पर कई कड़े सवाल पूछे हैं. अब इस पेगासस जासूसी कांड पर बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने 29 जुलाई को दो ट्वीट करके अपनी बात रखी. बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने देश की सुप्रीम कोर्ट से अनुरोध करते हुए कहा कि देश को इस जासूसी कांड के बारे में पूरी सच्चाई पता चल सके. इसके लिए सुप्रीम कोर्ट को अपने देखरेख में पेगासस जासूस कांड का जांच करवाना चाहिए.

देश के संसद में मानसून सत्र चल रहा है. सत्र के दौरान संसद के दोनों सदनों में पेगासस जासूसी कांड पर विपक्ष के नेता और भयंकर हंगामा कर रहे हैं. इसी बात को ध्यान रखते हुए बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने गुरुवार को किए गए अपने पहले ट्वीट हुए कहा कि “संसद का चालू मानसून सत्र देश, जनहित व किसानों आदि के अति-जरूरी मुद्दों पर सरकार व विपक्ष के बीच अविश्वास व भारी टकराव के कारण यह सत्र सही से चल नहीं पा रहा है. पेगासस जासूसी काण्ड भी काफी गरमा रहा है, फिर भी केन्द्र इस मुद्दे की जाँच कराने को तैयार नहीं. देश चिन्तित”

BSP प्रमुख मायावती बोलीं- बसपा के ब्राह्मण सम्मेलनों ने विपक्ष की उड़ाई नींद

जबकि अपने दूसरे ट्वीट में मायावती ने देश के सर्वोच्च न्यायालय से अपना मांग रखते हुए कहा कि “ऐसे में बीएसपी माननीय सुप्रीम कोर्ट से यह अनुरोध करती है कि वह देश में इस बहुचर्चित पेगासस जासूसी काण्ड के मामले में खुद ही संज्ञान लेकर इसकी जाँच अपनी निगरानी में कराये ताकि इसको लेकर सच्चाई जनता के सामने आ सके.” दरअसल देश की केंद्र सरकार पेगासस जासूसी मामले पर विपक्ष के विरोध का सामना कर रहा है. सरकार को कृषि कानून और पेगासस के मुद्दे पर संसद में भेजने के लिए बारह से अधिक विपक्षी पार्टियों ने एक साथ बैठक किया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें