खनन घोटाला: पूर्व IAS सत्येन्द्र सिंह के 9 ठिकानों पर CBI की रेड

Smart News Team, Last updated: 02/02/2021 10:39 PM IST
  • सत्येंद्र सिंह लखनऊ विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष और लखनऊ के डीएम भी रह चुके हैं. सीबीआई के अधिकारियों के मुताबिक हाईकोर्ट ने वर्ष 2016 में कौशांबी में गैरकानूनी ढंग से हुए घोटाले की जांच सीबीआई को करने के आदेश दिए थे.
पूर्व IAS सत्येन्द्र सिंह के 9 ठिकानों पर CBI ने छापेमारी की.

लखनऊ- सीबीआई ने खनन घोटाले में कौशांबी के जिलाधिकारी रहे पूर्व आईएएस सत्येंद्र सिंह और उनके करीबी रिश्तेदारों के लखनऊ, कानपुर, गाजियाबाद और दिल्ली में नौ ठिकानों पर मंगलवार को छापेमारी की. इस छापेमारी के दौरान सीबीआई ने 10 लाख नकद, 51 लाख रुपये के फिक्स डिपाजिट समेत करोड़ों की संपत्ति बरामद की है. बताते चलें कि उन पर आरोप हैं कि कौशांबी में डीएम रहते हुए उन्होंने शासन के निर्देशों की अनदेखी की और चहेतों को बिना टेंडर की शर्तों का अनुपालन किए हुए खनिज खनन का करोड़ों रुपये का ठेका दिया.

आपको बताते चलें कि इससे पहले सत्येंद्र सिंह लखनऊ विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष और लखनऊ के डीएम भी रह चुके हैं. सीबीआई के अधिकारियों के मुताबिक हाईकोर्ट ने वर्ष 2016 में कौशांबी में गैरकानूनी ढंग से हुए घोटाले की जांच सीबीआई को करने के आदेश दिए थे. इस मामले में सीबीआई प्रारंभिक छानबीन कर रही थी और सबूत जुटाने के बाद सीबीआई ने छापेमारी की.

UP में मध्यवर्ग के लोगों को मिलेगा सस्ता घर, जानें बजट में सरकार ने क्या दी राहत

छापेमारी में सीबीआई ने अचल संपत्ति से जुड़े 44 कागजात भी बरामद किए हैं. फिलहाल, सीबीआई इनकी कीमत का आकलन कर रही है. सीबीआई के सूत्रों के मुताबिक बाजार में कीमत 50 करोड़ रुपये के आसपास होगी. बताते चलें कि सीबीआई को छापे में 36 बैंक खातों की जानकारी मिली है. जबकि उनके घर से 10 लाख रुपये कैश मिले हैं. इसके अलावा बैंक लॉकर की छानबीन में सीबीआई को 2.11 करोड़ रुपये कीमत के सोने के जेवर समेत अन्य जेवरात बरामद हुए हैं.

UP में संदिग्ध और नवनियुक्त शिक्षकों के प्रमाण पत्र जांच का खर्चा उठाएगा विभाग

इनकम टैक्स रिटर्न में 75 साल से अधिक के बुजुर्गों को छूट सरकार का राहत भरा कदम

सीएम योगी ने की आम बजट की तारीफ, जानें किस वर्ग पर पड़ेगा कितना असर

UP में अरविंद कुमार व संजीव मित्तल समेत 10 IAS अफसरों के तबादले

अरविंद सेन को 24 घंटे की रिमांड, वॉयस सैंपल की भी मंजूरी

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें