फर्जी दस्तावेज से लिया करोड़ों का लोन, CBI अदालत ने अभियुक्तों को न्यायिक हिरासत में भेजा जेल

Smart News Team, Last updated: Fri, 6th Aug 2021, 11:21 AM IST
  • सीबीआई ने फर्जी दस्तावेज दिखाकर लोन लेने के मामले में तीन अभियुक्तों को 16 अगस्त तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. करीब 18 से 19 साल पूराने इस मामले में आरोपियों ने लखनऊ के अलग-अलग बैंकों से करोड़ो का होम लोन लिया था. सभी अभियुक्त पिछले दस वर्षो से फरार चल रहे थे.
फर्जी दस्तावेज दिखाकर होम लोन लेने वाले अभियुक्तों को सीबीआई ने 16 अगस्त तक न्यायिक हिरासत में भेजा. ( सांकेतिक फोटो )

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के लखनऊ में फर्जी दस्तावेजों से करोड़ों रुपये का लोन लेने का मामला सामने आया है. बीते कुछ दिनों पहले सीबीआई (CBI) ने अभियुक्त वैभव गुप्ता, ऊषा गुप्ता व गौरव सागर गुप्ता गिरफ्तार किया. सीबीआई ने मंगलवार को सभी आरोपियों को विशेष अदालत के समक्ष पेश किया गया था. सीबीआई के विशेष जज अजय विक्रम सिंह ने सभी को 16 अगस्त तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया है.

फजी दस्तावेज के जरिए लोन लोने का यह मामला 2002-04 का है. मामले का खुलासा होने के बाद 13 दिसंबर 2007 को इस मामले में एफआईआर दर्ज हुई थी. जांच के बाद 30 अप्रैल 2010 को आरोपियों के खिलाफ आरोप-पत्र दाखिल किए गए. आरोप में सभी अभियुक्तों पर यूपी के केनरा बैंक की हजरतगंज शाखा, यूनियन बैंक की सचिवालय शाखा व सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया की नक्खास शाखा के अधिकारियों से मिलीभगत करके करीब तीन करोड़ से अधिक का हाउस लोन प्राप्त करने का आरोप लगा.

Viral Video: लखनऊ में कैब चालक को पीटने वाली महिला बोलीं-ड्राइवर ने घसीट कर पीटा

शिकायत दर्ज होने के बाद सभी अभियुक्त करीब दस सालों से फरार चल थे. अदालत ने इनके खिलाफ गैर जमानती वांरट भी इस्यू कर दिया था. इस मामले में अभियुक्तों के साथ-साथ बैंक के अधिकारियों के खिलाफ भी आरोप-पत्र भी दाखिल किया गया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें