विभाग के ही अफसर निकले भ्रष्ट तो CBI ने अपने अधिकारियों के आवासों पर की छापेमारी

Smart News Team, Last updated: Fri, 15th Jan 2021, 7:25 AM IST
  • सीबीआई की कई टीमों ने गुरुवार को अपने ही विभाग के कई अफसरों के घर पर छापेमारी की है. जिसमे अधिकारियों पर आरोपी कम्पनियों मदद करने से लेकर फर्जी जाती प्रमाणपत्र बनवाकर नौकरी लेने का आरोप है.
विभाग के ही अफसर निकले भ्रष्ट तो CBI ने अपने अधिकारियों के आवासों पर की छापेमारी

लखनऊ. सीबीआई ने बैंकों से धोखाधड़ी के मामले में अपने ही अधिकारियों और अफसरों के ठिकानों पर छापेमारी की है. वहीं सीबीआई ने आरोपी कंपनियों की मदद करने और अपने पद का दुरूपयोग करने मामले भी दर्ज किए है. सीबीआई कज के टीमों ने गुरुवार को अपने ही अफसरों के ठिकानों की तलाशी करने के लिए दिल्ली, नोएडा गाजियाबाद, गुड़गांव, मेरठ और कानपुर में छापे मारे है. वहिं इससे पहले सीबीआई अपने ही अधिकारियों के घरों और ठिकानों पर छापेमारी कर चुकी है. सीबीआई ने 2016, 2019 और 2020 में छापेमारी कर चुकी है.इस दौरान आरोपी अफसरों को गिरफ्तार भी किया गया था.

सीबीआई ने गुरुवार को मारे गए के जगहों पर छापेमारी में एसटी जाती का फर्जी प्रमाण पत्र बनवाकर नौकरी लेने वाले मामले पर भी कई जगहों पर जांच किया गया. सीबीआई की एक टीम ने हापुड़ रोड स्थित सीबीआई अकादमी में डिप्टी पद पर तैनात आरके ऋषि के ठिकाने पर छापेमारी की. साथ ही इनके कौशाम्बी के आवास पर कई दस्तावेज भी खंगाले है.

रोहतास बिल्डर ने 21 कंपनियां बनाकर जनता और बैंक से ठगे 511 करोड़ रुपए

वहीं सीबीआई के अफसरों ने बताया कि उन्हीने ने डिप्टी एसपी के कौशाम्बी में शिवालिक टावर के आवास पर छापेमारी की है. जहां पर उन्होंने ने गुरुवार की सुबह करीब 8:30 छापा मारा. उस टीम में 10 से ज्यादा अधिकारी शामिल थे. वहीं उन अधिकारियों ने आरके ऋषि के आवास पर सभी चीजों और दस्तावेजों को खंगाला गया. वहीं उन्होने ने आगे बताया कि जांच में आरके ऋषि का नाम सामने आने के बाद उनके ठिकानों की तलाशी ली गई है.

खाते में पड़े है करोड़ों, विकास के नाम पर बजट का रोना रो रहे नगर निगम

इसके अलावा अनपरा में सीबीआई ने छापेमारी कर रक युवक रंजीत गुप्ता को गिरफ्तार किया है. जिसके ऊपर मेघालय की राजधानी शिलांग में फर्जी फर्म बनाकर करोड़ों रुपए का फर्जीवाड़ा करने का आरोप लगा हुआ है. वहीं रंजीत पर यह भी आरोप है कि उसने कार्य का पूरा पैसा ले लिया है और सिर्फ कागजो पर ही उस कार्य को दिखाया है. दरअसल वो कार्य अभी तक शुरू भी नहीं किया गया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें