CBSE एग्जाम में ये खास सॉफ्टवेयर करेगा जासूसी, परीक्षा सेंटर की विश्वसनीयता भी परखेगा

Anurag Gupta1, Last updated: Mon, 15th Nov 2021, 8:28 AM IST
  • सीबीएसई सॉफ्टवेयर की मदद से सेंटरों की विश्वसनीयता को चेक करेगा. अगर सेंटर पर नकल कराने का प्रयास किया गया है तो भी उसकी पोल खोल देगा. सीबीएसई 10वीं और 12वीं के पहले टर्म की परीक्षा में इस प्रक्रिया का इस्तेमाल करेगा. इस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल सबसे पहले सीटेट की परीक्षा में हुआ है.
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा परिषद (फाइल फोटो)

लखनऊ. केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा परिषद (सीबीएसई) सॉफ्टवेयर की मदद से परीक्षा सेंटर की निगरानी करेगा कि सेंटर विश्वसनीय है या नहीं. सीबीएसई एक खास सॉफ्टवेयर के माध्यम से सेंटर की निगरानी करेगा और वहां की हर गतिविधियों का अध्ययन करेगा. ये सॉफ्टवेयर इस हद तक काम करेगा अगर सेंटर पर नकल कराने का प्रयास किया गया है तो भी उसकी पोल खोल देगा.

बता दें ये सॉफ्टवेयर सेंटर पर हो रही हर गतिविधि पर नजर रखेगा. परीक्षा के समय होने वाली गतिविधि यानी कि परीक्षा का समय, वीडियोग्राफी आदि की डिटेल के आधार पर आकलन करेगा कि ये सेंटर विश्वसनीय है या नहीं. इस सॉफ्टवेयर के माध्यम से नकल रोकने में मदद मिलेगी. बता दें इस स़ॉफ्टवेयर का पहले इस्तेमाल किया जा चुका है जिसमें ये सफल हुआ.

यूपी चुनाव को लेकर भाजपा घोषणा पत्र समिति का गठन, सुरेश खन्ना बनाए गए अध्यक्ष

सीटेट में मिली सफलता:

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा परिषद (सीबीएसई) ने सबसे पहले सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल सीटेट में किया. जिसमें यह जानने में सफलता मिल गई कि किन सेंटरों पर किस-किस कारण से संदेह किया जा सकता है. कौन सा सेंटर परीक्षा के मामले में कितना विश्वसनीय है.

10वीं और 12वीं की परीक्षा में अपनाया जाएगा:

आपको बता दें कि इस बार 10वीं और 12 वीं की परीक्षा दो टर्म में होनी है. सीबीएसई 10वीं और 12वीं के पहले टर्म की परीक्षा में इस प्रक्रिया का इस्तेमाल करेगा. बोर्ड परीक्षा के बाद सेंटर स्क्वॉयर फाउंडेशन और प्ले पावर लैब की मदद से संदिग्ध गतिविधियों का पता करेंगे कि कौन सा सेंटर ठीक है कौन सा संदेह के घेरे में है. यदि सेंटर पर नकल हुई है तो सॉफ्टवेयर की मदद से एनालिसिस कर इसकी जानकारी हो जाएगी. निदेशक आईटी डॉ. अंतरिक्ष जौहरी ने स्कूलों को यह जानकारी दी है. बोर्ड ने विशेष एलगोरिदम की मदद से डेटा एनालिसिस के लिए ये खास सॉफ्टवेयर तैयार कराया है. इस सॉफ्टवेयर की मदद से सेंटरों पर होने वाली गड़बड़ी को भांपा जा सकेगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें