लखनऊ: यूपी को मिलेगी सबसे ज्यादा कोरोना वैक्सीन की डोज, केंद्र सरकार की एडवाइजरी जारी

Smart News Team, Last updated: 14/12/2020 03:02 PM IST
  • केंद्र सरकार ने कोरोना वैक्सीन को लेकर राज्यों को एडवाइजरी जारी कर दी है. राज्यो को प्राथमिकता के आधार पर कोरोना वैक्सीन के डोज दिए जाएगे. जनसख्या के हिसाब से उत्तर प्रदेश को सबसे ज्यादा वैक्सीन के डोज मिल सकते हैं.
उत्तर प्रदेश को कोरोना वैक्सीन के सबसे ज्यादा डोज मिलेंगे ( सांकेतिंक फोटो )

लखनऊ: देश के लोगों को जल्द ही कोरोना वैक्सीन की सौगाद मिल सकती है. केंद्र सरकार केंद्र सरकार ने हाल ही में सभी राज्यों के लिए एडवाइजरी जारी की है, जिसमें टीका लगाते समय लोगों की प्राथमिकता को देखा जाएगा. जरुरत के आधार पर ही राज्यों को वैक्सीन की डोज दी जाएगी. एडवाइजरी में कहा गया है पहले चरण में वैक्सीन के डोज स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों को दिए जाएगे. जानकारी के अनुसार सबसे ज्यादा डोज उत्तर प्रदेश को मिल सकते है.

प्राथमिकता के आधार पर जिन राज्यों में डाइबीटीज और हाई ब्लड प्रेशर के सबसे ज्यादा मरीज हैं. उन्हें सबसे ज्यादा वैक्सीन के डोज मिलेंगे. बता दें कि तमिलनाडु की आबादी बिहार, मध्य प्रदेश और राजस्थान जैसे राज्यों से कम है. फिर भी तमिलानाडू को इनसे ज्यादा वैक्सीन के डोज मिलेंगे. बिहार में महज 1.8 करोड़ लोग 50 वर्ष से अधिक उम्र से अधिक है तो वही तमिलनाडु के 2 करोड़ लोग 50 साल से ऊपर है. इसी कारण तमिलनाडू को बिहार से ज्यादा वैक्सीन मिलने की उम्मीद है.

कोरोना टीकाकरण की पर्ची घर पर पहुंचेगी,कब-कहां और कैसे मिलेगी वैक्सीन, जानें

अगर सबसे ज्यादा वैक्सीन प्राप्त करने की बात की जाए, तो उत्तर प्रदेश का पहला नंबर आता है. इसके बाद महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल और बिहार इस सूची में शामिल है. एक रिपोर्ट के अनुसार, केरल में 25 प्रतिशत से अधिक लोग डायबिटीज से ग्रसित हैं। इसलिए केरल को सबसे ज्यादा  वैक्सीन का आवश्यक्ता अधिक है. एडवाइजरी में कहा गया है कि टीकाकरण के लिए विशेष सत्रों का आयोजन किया जाएगा. एक सत्र में 100 लोगों को टीका लगाया जाएगा. टीकाकरण कराने के क्रिया मतदान की तरह होगी. एक हर व्यकित अपनी पहचान कराकर बूथ पर जाकर टीका लगा सकता है.

आ रही है कोरोना की वैक्सीन, सीएम योगी ने किया समय का ऐलान

मिडल क्लास फैमिलीज को लुभाने के लिए योगी सरकार की नई योजनाएं, जानें डिटेल्स

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें