16 जनवरी से भारत में लगनी शुरू होगी कोरोना वैक्सीन, केंद्र का ऐलान

Smart News Team, Last updated: Sat, 9th Jan 2021, 6:15 PM IST
  • केन्द्र सरकार ने शनिवार को ऐलान किया कि भारत में 16 जनवरी से कोरोना वैक्सीनेशन का अभियान शुरू हो जाएगा. सबसे पहले स्वास्थ्यकर्मियों और फ्रंटलाइन वर्करों को कोरोना का टीका लगाया जाएगा. इसको लेकर पीएम मोदी 11 जनवरी को सभी राज्यों के साथ मीटिंग करेंगे.
कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर पीएम मोदी 11 जनवरी को सभी राज्यों के साथ मीटिंग करेंगे.

लखनऊ. भारत में 16 जनवरी से कोरोना वैक्सीन लगनी शुरू हो जाएगी. केन्द्र सरकार ने शनिवार को भारत में कोरोना वैक्सीनेशन शुरू करने का ऐलान किया. मकर संक्रांति, पोंगल, माघ बिहु जैसे त्यौहारों को देखते हुए सरकार ने कोरोना वैक्सीनेशन अभियान 16 जनवरी से शुरू करने का फैसला लिया है. इसको लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 11 जनवरी को सभी राज्यों के साथ मीटिंग करेंगे.

भारत में कोरोना टीकाकरण की शुरूआत 16 जनवरी से होगी. सबसे पहले 3 करोड़ स्वास्थ्य कर्मचारियों और फ्रंटलाइन वर्करों को टीका लगाया जाएगा. इसके बाद 50 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी. इससे कम उम्र के लोग अगर गंभीर बीमारी से पीड़ित हैं तो उनको भी पहले वैक्सीन लगाई जाएगी. ऐसे लोगों की संख्या करीब 27 करोड़ है.

यूपी की नई आबकारी नीति को मंजूरी, पुरानी दुकानों का लाइसेंस होगा रिन्यू

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सभी राज्यों और केन्द्रशासित प्रदेशों में कोरोना वैक्सीनेशन की तैयारी की जायजा लेने के लिए शनिवार को उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक की. इस मीटिंग में प्रधानमंत्री ने देश भर में कोराना टीकाकरण की तैयारियों के बारे में जानकारी ली. पीएम ने को-विन वैक्सीन डिलिवरी मैनेजमेंट सिस्टम के बारे में भी जानकारी ली. आपको बता दें कि अब तक 79 लाख से ज्यादा लाभार्थियों ने को-विन पर रजिस्ट्रेशन करा लिया है.

बर्ड फ्लू की दहशत से भारी नुकसान की ओर चिकन बाजार, मटन और फिश के दाम बढ़े

इस उच्चस्तरीय समीक्षा मीटिंग में कैबिनेट सेक्रेटरी, पीएम के प्रधान सचिव, स्वास्थ्य सचिव और दूसरे बड़े अधिकारी शामिल हुए. आपको बता दें कि भारत में बनी दो कोरोना वैक्सीन कोविडशील्ड और कोवैक्सीन को आपातकालीन स्थिति में इस्तेमान करने की इजाजत मिल चुकी है. भारत में कोराना टीकाकरण के रिहर्सल के लिए दो बार देशव्यापी ड्राई रन हो चुका है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें