UP चुनाव 2022 को लेकर केंद्र सरकार का बड़ा कदम, यूपी को मिले 150 कंपनी अर्धसैनिक

Smart News Team, Last updated: Sat, 8th Jan 2022, 7:59 AM IST
  • आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर भले ही उत्तर प्रदेश में केंद्रीय अर्धसैनिक बल को लगाया जाए, लेकिन सकुशल चुनाव संपन्न कराने के लिए यूपी पुलिस की ताकत भी बेहद जरूरी है. केंद्र सरकार ने यूपी में विधानसभा चुनावों के मद्देनज़र पहले चरण के लिए 150 कंपनी अर्धसैनिक बलों की तैनाती करने का फैसला किया है.
केंद्र का UP चुनाव को लेकर बड़ा फ़ैसला: प्रदेश को दिए 150 कंपनी अर्धसैनिक बल! (फाइल फोटो 

लखनऊ. यूपीआगामी विधानसभा चुनाव को लेकर भले ही उत्तर प्रदेश में केंद्रीय अर्धसैनिक बल को लगाया जाए, लेकिन सकुशल चुनाव संपन्न कराने के लिए यूपी पुलिस की ताकत भी बेहद जरूरी है. केंद्र सरकार ने यूपी में विधानसभा चुनावों के मद्देनज़र पहले चरण के लिए 150 कंपनी अर्धसैनिक बलों की तैनाती करने का फैसला किया है.

इन सुरक्षा बलों को 10 जनवरी से पहले चरण में जिलों में तैनात किया जाएगा. एडीजी कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार ने बताया कि केंद्र ने जो 150 कंपनी अर्द्धसैनिक बल दिए हैं, उनमें से 50 कंपनी सीआरपीएफ, 30 कंपनी बीएसएफ, 20 कंपनी सीआईएसएफ और 20 कंपनी आईटीबीपी की होंगी.

UP चुनाव से पहले यूपी सरकार का PRD जवानों को तोहफा, ड्यूटी भत्ते में किया इजाफा

इन कंपनियों को सभी 78 जिलों व पुलिस कमिश्नरेट में संवेदनशीलता एवं आवश्यकता के अनुसार आवंटित कर दिया गया है. इन केंद्रीय पुलिस बल को स्थानीय पुलिस बल के साथ फ्लैग मार्च करने को कहा गया है ताकि लोग सुरक्षा महसूस कर सकें. इस पुलिस कंपनियों को जिलों में पुलिस विधानसभावार तैनात करेगी. प्रदेश में पिछले चुनाव में 300 कंपनी केंद्रीय अर्द्धसैनिक बल तैनात किया गया था. माना जा रहा है कि केंद्र से जल्द ही और अर्द्धसैनिक बल प्राप्त होगा.

बताते चले कि इस साल फरवरी-मार्च में पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं. इनमें उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, मणिपुर और गोवा हैं.

आबादी और सीट के लिहाज से उत्तर प्रदेश सबसे बड़ा राज्य है. यहां करीब 6 से 7 चरणों में विधानसभा चुनाव संपन्न हो सकते हैं. उत्तर प्रदेश में विधानसभा की 405 सीटें हैं, जिनमें से 403 विधानसभा सीटों पर चुनाव होना है. इस वक्त प्रदेश में भाजपा की सरकार है. सभी राजनीतिक दल जोर-शोर से प्रचार प्रसार में लगे हुए हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें