ई-पंचायत अवार्ड 2021: यूपी को मिला पहला स्थान, राजस्थान और MP रहे इस पायदान पर

Smart News Team, Last updated: Tue, 13th Apr 2021, 6:00 PM IST
  • उत्तर प्रदेश ने ई-पंचायत पुरस्कार 2021 का पहला पुरस्कार जीत लिया है. केन्द्रीय पंचायती राज मंत्रालय ने तीन अलग-अलग कैटेगरी में ई-पंचायत पुरस्कार की घोषणा की. यूपी के अलावा दूसरी कैटेगरी में राजस्थान तीसरे और तीसरी कैटेगरी में मध्य प्रदेश दूसरे स्थान पर रहा.
केन्द्रीय पंचायती राज मंत्रालय ने तीन कैटेगरी में ई-पंचायत पुरस्कार की घोषणा की है. प्रतीकात्मक तस्वीर

लखनऊ. केन्द्रीय पंचायती राज मंत्रालय ने मंगलवार को तीन अलग-अलग कैटेगरी में ई-पंचायत पुरस्कार की घोषणा की है. जिसकी पहली कैटेगरी में उत्तर प्रदेश पहले स्थान पर रहा है. वहीं दूसरी कैटेगरी में राजस्थान तीसरे और तीसरी कैटेगरी में मध्य प्रदेश दूसरे स्थान पर रहा है. ये पुरस्कार 24 अप्रैल को दिए जाएंगे. इसके लिए फरवरी में ऑनलाइन आवेदन किया गया था और सोमवार को विजेताओं का ऐलान किया गया है.

मिली जानकारी के अनुसार, केन्द्र पंचायती राज मंत्रालय ने कई मानकों को देखने के बाद इस पुरस्कार की घोषणा की है. इन मानकों में ई-ग्राम स्वराज पोर्टल, प्लान प्लस, एक्शन साफ्ट, एलजीडी का पंचायतों में संचालन, ई-सर्विस, पंचायत प्रतिनिधियो और कर्मियों का प्रशिक्षण शामिल है. इन मानकों को देखने के बाद उत्तर प्रदेश ने 2021 का ई-पंचायत पुरस्कार जीत लिया है.

लखनऊ DM का आदेश- छुट्टी लेने के लिए स्वास्थकर्मियों को लेनी होगी परमिशन

कुछ मूल्यांकनों के आधार पर उत्तर प्रदेश को प्रथम पुरस्कार के लिए चुनाव गया है. जिसके मुताबिक, 58 हजार 194 ग्राम पंचायतों ने 2019-20 और 2020-21 में जीपश्डीपी को शत-प्रतिशत ग्राम ई-स्वराज पोर्टल पर अपलोड किया है. इसके अलावा 58 हजार 194 ग्राम पंचायतों ने ई-ग्राम स्वराज पोर्टल से 2019-20 में 2 लाख 13 हजार 525 और 2020-21 में 1 लाख 95 हजार 903 डिजिटल सिग्नेचर पंजीकृत करके कुल 17 हजार 881 करोड़ का ऑनलाइन भुगतान किया गया.

घर वापसी कर रहे मजदूरों की परेशानी दूर करने के लिए परिवहन विभाग ने बढ़ाई बसें

उत्तर प्रदेश की पंचायतों ने 21 लाख 27 हजार 863 वेण्डरों को रजिस्टर करके ऑनलाइन पेमेंट किया है. इसके अलावा प्रदेश की 58 हजार 194 ग्राम पंचायत, 826 क्षेत्र पंचायत और 75 जिला पंचायतों को पंजीकृत कर लिया गया है. वहीं सभी जिला पंचायतों को नेशल पोर्टल पर रजिस्टर किया गया है. यूपी पंचायतों को इन कामों को देखते हुए यूपी ई-पंचायत पुरस्कार में पहले स्थान पर आया है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें