राम मंदिर जमीन घोटाले पर बोले चंपत राय- आरोप लगाने वालों ने हमसे बात करने की जहमत तक नहीं उठाई

Smart News Team, Last updated: Tue, 15th Jun 2021, 12:49 PM IST
राम मंदिर जमीन घोटाले पर ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने कहा कि सभी आरोप भ्रामक है और लोगों को उनके झांसे में नहीं आना चाहिए. आरोप लगाने वालों ने हमसे बात करने की जहमत तक नहीं उठाई.उन्होंने लोगों से मंदिर के समय पर निर्माण के लिए सहयोग की अपील की है.
राम मंदिर जमीन घोटाले पर ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय का बयान सामने आया है.

लखनऊ. राम मंदिर जमीन घोटाले के मामले में राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने कहा कि आरोप लगाने वालों ने हमसे बात करने की जहमत तक नहीं उठाई. हमने मालिकाना हक तय होने के बाद जमीन का ठेका करवाया. चंपत राय ने यह भी कहा कि लगाए गए सभी आरोप भ्रामक हैं और लोगों को उनके झांसे में नहीं आना चाहिए. उन्होंने लोगों से मंदिर के समय पर निर्माण के लिए सहयोग की अपील की है.

आपको बता दें कि बीते रविवार को आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह और समाजवादी पार्टी के पूर्व मंत्री तेज नारायण पांडेय पवन ने अयोध्या राम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट में जमीन खरीद के नाम पर करोड़ों रुपए के घोटाले का आरोप लगाया था. आप सांसद ने इस मामले में लखनऊ में प्रेस कॉन्फ्रेंस भी की. उन्होंने कहा कि 18 मार्च 2021 को 2 करोड़ रुपए में बिकी जमीन को कुछ ही मिनटों में ट्रस्ट ने 18. 5 करोड़ रुपए में खरीदा है.

अयोध्या में कथित जमीन घोटाले की जांच के लिए महिला कांग्रेस का लखनऊ में प्रदर्शन

इसके अलावा पूर्व मंत्री तेज नारायण पांडेय पवन ने अयोध्या में घोटाले के आरोप लगाए. दोनों ने मीडिया के सामने दस्तावेज रखते हुए कहा कि इस जमीन की कीमत 5.80 करोड़ रुपए है लेकिन सुल्तान अंसारी और रवि मोहन तिवारी ने 18 मार्च 2021 को इस जमीन को कुसुम पाठक और हरीश पाठक से 2 करोड़ रुपए में खरीदा था. जमीन रजिस्ट्री में अनिल मिश्र और अयोध्या मेयर ऋषिकेश उपाध्याय इसके गवाह थे. सपा नेता और आप के राज्य सभा सांसद संजय सिंह ने आरोप लगाते हुए कहा कि चंद मिनटों बाद ही इस जमीन को रामजन्मभूमि ट्रस्ट ने 18.5 करोड़ रुपए में खरीद लिया. उन्होंने यह भी कहा कि जो गवाह पहली खरीद में थे वही ट्रस्ट के बैनामे में भी गवाह हैं. इसे मनी लांड्रिंग का मामला माना जा रहा है. वहीं, इस मामले में चंपत राय ने कहा था कि महात्मा गांधी पर भी आरोप लगे थे और आज हम पर लगे हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें