राम नगरी अयोध्या में महर्षि महेश योगी विश्वविधालय को मिली हरी झंडी

Smart News Team, Last updated: Sat, 5th Jun 2021, 12:07 AM IST
  • शुक्रवार को मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने उत्तर प्रदेश में निजी विश्वविद्यालयों की स्थापना से संबंधित प्रस्तावों की समीक्षा की. इस दौरान अयोध्या में महर्षि महेश योगी विश्वविद्यालय की स्थापना के प्रस्ताव को हरी झंडी दी गई. विश्वविद्यालय से प्राप्त प्रस्ताव पर अब जल्द ही शर्तों के अधीन आशय पत्र जारी कर दिया जाएगा.
अयोध्या में महर्षि महेश योगी विश्वविधालय को मिली हरी झंडी. (प्रतिकात्मक फोटो)

लखनऊ- शुक्रवार को मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने उत्तर प्रदेश में निजी विश्वविद्यालयों की स्थापना से संबंधित प्रस्तावों की समीक्षा की. इस दौरान अयोध्या में महर्षि महेश योगी विश्वविद्यालय की स्थापना के प्रस्ताव को हरी झंडी दी गई. विश्वविद्यालय से प्राप्त प्रस्ताव पर अब जल्द ही शर्तों के अधीन आशय पत्र जारी कर दिया जाएगा. वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से आयोजित इस समीक्षा बैठक में मुख्य सचिव ने कहा कि प्रदेश में निजी विश्वविद्यालय की स्थापना के लिए जिन प्रायोजक संस्थाओं द्वारा सभी औपचारिकताएं पूरी कर ली गई हैं, उन्हें शीघ्र ही लेटर आफ इंटेन्ट (एलओआई) जारी किए जाएं.

उन्होंने आगे कहा कि जिन संस्थाओं की औपचारिकताएं अभी अपूर्ण हैं, उनके साथ बैठक कर उन्हें शीघ्र पूर्ण कराने के प्रयास किए जाएं. प्रायोजक संस्थाओं को निजी विश्वविद्यालयों की स्थापना से संबंधित औपचारिकताएं पूरी करने के लिए जो समय दिया गया है, वह निर्धारित समय में उसे पूरी करें. बैठक में जीएस विश्वविद्यालय हापुड़ तथा जेएम ग्लोबल यूनिवर्सिटी ग्रेटर नोएडा के प्रस्तावों का परीक्षण कर नियमानुसार आगे की कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए.

छोटे बच्चों के अभिभावकों के कोरोना वैक्सीनेशन की है विशेष व्यवस्था: CM योगी

मुख्य सचिव ने कहा कि जिन प्रायोजक संस्थाओं के पास मानक के अनुसार भूमि उपलब्ध नहीं है अथवा संस्था के नाम से भूमि अभिलेखों में दर्ज नहीं है, उन प्रस्तावों को निरस्त किया जाए. बैठक में अपर मुख्य सचिव उच्च शिक्षा मोनिका एस. गर्ग, सचिव उच्च शिक्षा शमीम अहमद खान व विशेष सचिव उच्च शिक्षा अब्दुल समद मौजूद रहे. संबंधित विभागों के वरिष्ठ अधिकारी तथा प्रायोजक संस्थाओं के पदाधिकारी वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक में शामिल हुए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें