खतरा! बच्चे होंगे कोरोना की तीसरी लहर का शिकार, जानें कैसे करें उनकी सुरक्षा

Smart News Team, Last updated: Sat, 8th May 2021, 11:55 AM IST
  • कोरोना वायरस की तीसरी लहर की आहट ने लोगों को डरा दिया है. कोविड की तीसरी लहर की सबसे ज्यादा डराने वाली बात यह है कि इस लहर की चपेट में बच्चे भी आ सकते हैं.
खतरा! बच्चे होंगे कोरोना की तीसरी लहर का शिकार, जानें कैसे करें उनकी सुरक्षा

लखनऊ। पूरा देश कोरोना वायरस की दूसरी लहर की मार अभी तक झेल रहा ही था कि इसकी तीसरी लहर की आहट ने लोगों को डरा दिया है. कोविड की तीसरी लहर की सबसे ज्यादा डराने वाली बात यह है कि इस लहर की चपेट में बच्चे भी आ सकते हैं. इसलिए सवाल यह उठता है कि आखिर कैसे अपने बच्चों को कोविड की इस तीसरी लहर से कैसे बचाया जाए. विशेषज्ञों का कहना है कि बच्चों में इम्यूनिटी को मजबूत बनाकर ही इस तीसरी लहर का मुकाबला किया जा सकता है. अब सुप्रीम कोर्ट ने भी सरकार से इस तीसरी लहर को लेकर तैयारी करने को कहा है.

बच्चों को तीसरी लहर से बचाने के अभिभावक इस बात का ध्यान रखें कि बाहर से आने वाले लोगों के संपर्क में बच्चों को ना लाया जाए. बच्चों को बाजार लेकर न जाएं. अगर घर में कोई व्यक्ति बीमार है तो बच्चे को एन95 मस्क जरूर पहना कर रखें. इसके साथ ही बच्चों के खाने पीने का खास ख्याल रखें. उनको ऐसा खाना खिलाएं जिससे उनकी इम्यूनिटी बढ़ सके. बच्चों को दालें, हरी सब्जियां और फल खिलाएं, उन्हे कैल्शियम की दवा भी दी जा सकती है. बच्चों को ठंडा पानी या तैलीय भोजन बिल्कुल भी न खिलाएं.

CM योगी का आदेश- UP की सभी गौशालाओं में लगाएं ऑक्सीमीटर और थर्मल स्कैनर

सर गंगा राम अस्पताल के डॉक्टर धीरेन गुप्ता के मुताबिक परिजनों और बड़े लोग आगे टीका लगा लेते हैं तो इससे बच्चों को भी सुरक्षा मिलेगी. बच्चे संक्रमण के वाहक है और वे तीसरी लहर में अन्य लोगों को संक्रमित कर सकते हैं. बच्चों के टीकाकरण के बिना हाई इम्यूनिटी संभव नहीं होगी.

बच्चों में लक्षणों को न करें नजरंदाज

बच्चों में खासी जुकाम और पेट की समस्या होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें. बिना डॉक्टर की सलाह के कोई दवा जैसे एंटीबायोटिक, एंटीवायरल ड्रग्स, स्टेरॉइड्स आदि बिल्कुल भी न खिलाएं.

लखनऊ में एंबुलेंस के रेट तय, कोरोना मरीज से नहीं वसूले जाएंगे मनमाने पैसे

कोरोना की इस तीसरी लहर के जुलाई या सितंबर के बीच आने की आशंका जताई जा रही है. वहीं कुछ का दावा है कि यह तीसरी लहर ठंड में आएगी. इस तीसरी लहर के संकट से निपटने के लिए मुंबई में देश का पहला पीडियाट्रिक कोविड केयर वर्ल्ड और क्रैच नेटवर्क बनाए जा रहे हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें