CM योगी बने गोरखनाथ यूनिवर्सिटी के कुलाधिपति, 24 जून को कार्य परिषद की पहली बैठक

Smart News Team, Last updated: Mon, 21st Jun 2021, 8:03 AM IST
  • सीएम योगी को गोरखपुर में स्थित महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय का कुलाधिपति बनाया गया है. वहीं विश्वविद्यालय के कुलपति के रूप में मेजर जनरल डॉ. अतुल वाजपेयी और प्रति कुलाधिपति प्रोफेसर यूपी सिंह को नियुक्त किया गया है.
सीएम योगी आदित्यनाथ बने महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय के कुलाधिपति (प्रतीकात्मक तस्वीर)

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के सीएम और गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ को महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय, बालापार, गोरखपुर का कुलाधिपति बनाया गया है. यह गोरखपुर में स्थित एक निजी विश्वविद्यालय है. इस यूनिवर्सिटी के कुलपति के पद पर मेजर जनरल डॉ. अतुल वाजपेयी को नियुक्त किया गया है. वहीं प्रति कुलाधिपति के रूप में प्रोफेसर यूपी सिंह को जिम्मेदारी सौंपी गई है. इस यूनिवर्सिटी के कार्य परिषद की पहली बैठक 24 जून को आयोजित की गई है.

इस विश्वविद्यालय में शिक्षण कार्य इसी सत्र से शुरू होने वाला है. विश्वविद्यालय कार्य समिति के प्रस्तावित प्रारूप को भी तैयार कर लिया गया है. इस यूनिवर्सिटी के कुलसचिव के रूप में एमपी पीजी कॉलेज जंगल धूसड़ के प्राचार्य डॉ. प्रदीप कुमार राव को नियुक्त किया गया है. डॉ. राव ने बताया कि यूनिवर्सिटी की कार्यसमिति में कुल आठ सदस्य है. कार्यसमिति की पहली बैठक 24 जून को दोपहर एक बजे से होगी. यह बैठक विश्वविद्यालय के प्रशासनिक भवन के साभागार में आयोजित होगी.

UP अनलॉक: आज से खुलेंगे मॉल और रेस्टोरेंट, जानें किन-किन चीजों में राहत

महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय को यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ एक आर्दश विश्वविद्यालय के रूप में स्थापित करना चाहते है. मुख्यमंत्री योगी की सिफारिश पर ही डॉ. सीएम सिन्हा और डॉ. एसएन सिंह को कार्य समिति में शामिल किया गया है.

इस निजी विश्वविद्यालय में बीएससी नर्सिंग, पोस्ट बेसिक बीएससी नर्सिंग, बीएएमएस, बीएचएमएस, बीयूएमएस, बीडीएस, एमबीबीएस, डीफार्मा (आयुर्वेद व एलोपैथ), बीएससी एलटी, बीए/बीएससी यौगिक साइंस, बीएससी एजी, बीए ऑनर्स, बीएससी ऑनर्स (मैथ व बायो), बीएससी कंप्यूटर, बीकॉम, बीएड, बीएससी-बीएड, बीए-बीएड, बीपीएड, पैरा मेडिकल का सर्टिफिकेट, बीसीए, बीबीए, डिप्लोमा और डिग्री कोर्स, शास्त्री ऑनर्स आदि पाठ्यक्रमों का संचालन किया जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें